Breaking News

खाने-पीने और फैशन के साथ बिखरे मालवा संस्कृति के रंग मालवा उत्सव में

Posted on: 03 May 2018 15:28 by Lokandra sharma
खाने-पीने और फैशन के साथ बिखरे मालवा संस्कृति के रंग मालवा उत्सव में

इंदौर: प्रदेश की संस्कृति की झलक और गीत-संगीत लुभा रही थी, वहीं खाने-पीने से लेकर फैशन लवर्स के लिए भी बहुत कुछ था। एक ही जगह यदि मनोरंजन के साथ सभी चीजें मिल जाएं तो सोने पे सुहागा जैसी बात हो जाती है। ऐसा ही उत्साह और उमंग से भरा माहौल नज़र आया लोकसंस्कृति द्वारा आयोजित लालबाग परिसर इंदौर में आयोजित मालवा उत्सव में।

WhatsApp Image 2018-05-03 at 20.20.12

लोकसंस्कृति मंच के संयोजक शंकर लालवानी ने बताया सांस्कृतिक कार्यक्रम में हर साल कुछ नया करते हैं वहीं सभी प्रदेशों की सांस्कृतिक एकता को दिखाना की कोशिश करते हैं। मेले में रंगारंग कार्यक्रम आयोजित किए गये। जिनका आनंद हर उम्र के लोगों ने उठाया साथ ही संस्कृति को भी जाना।

WhatsApp Image 2018-05-03 at 20.20.17
मालवा उत्सव के दूसरे दिन की पहली प्रस्तुति बेटी बहू के मान-सम्मान को आधार बनाकर मालवी निमाड़ी गीत के साथ एक लोक नृत्य प्रस्तुत किया गया। इस नृत्य में निमाड़ मालवा में लड़की के जन्म लेने पर ताली बजाकर उसका स्वागत किया जाता है। एक बेटी के जन्म से लेकर उसके घर तक का सफर लोक नृत्य के माध्यम से बताया गया।

वहीं जैसलमेर राजस्थान का पारंपरिक नृत्य तेरहताली की प्रस्तुति दी गई। इसके साथ ही छत्तीसगढ़ का प्रसिद्ध लोक नृत्य और बैतूल का नृत्य के साथ ही गुजरात के कलाकारों राधा कृष्ण की रासलीला की मोहक नृत्य प्रस्तुति दी।

WhatsApp Image 2018-05-03 at 20.20.25

कार्यशाला में सीख रहे हैं आर्ट
मालवा उत्सव में रंगारंग कार्यक्रम के साथ ही आर्ट कार्यशाला भी आयोजित की जा रही है। कलाकार्य शाला में प्रतिभागी फैब्रिक पेंटिंग, लिक्विड एंब्रॉयडरी , पेंसिल पेंटिंग ,पेपर मेशी वर्क के साथ ही भील पेंटिंग आदि सीख रहे हैं।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com