Breaking News

रक्षा में मेक इन इंडिया फेल, वरिष्ठ पत्रकार अशोक वानखेड़े की टिप्पणी

Posted on: 04 Jun 2018 06:21 by krishna chandrawat
रक्षा में मेक इन इंडिया फेल, वरिष्ठ पत्रकार अशोक वानखेड़े की टिप्पणी

इंदौर : भारत सरकार मेक इन इंडिया प्रोजेक्ट के तहत देश में बने सामान का उपयोग करने को कहती है इसके लिए कई प्रोडक्ट यहां बनना भी शुरू हो गए हैं।

लेकिन देश में निर्मित ये प्रोडक्ट हमारे लिए कहां तक सही साबित है, इस बात का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि कुछ दिन पहले रक्षा मंत्रालय ने भारतीय सेना के लिए 74 सप्लायरों से 14 सेन्य उपकरण मंगवाए थे।

जब उन सभी 14 उपकरणों का ट्रायल लिया गया तो उनमे से मात्र 3 ही पास हो पाए बाकि सभी फेल, आपको बता दे जो आयटम टेस्ट में पास हुए वह विदेशी थे। गोरतलब है कि वे सभी सप्लायर तो भारतीय है लेकिन टेस्ट में सफल सामना विदेश से खरीदा हुआ निकला ।

सूत्रों के अनुसार रक्षा मंत्रालय वो सभी सेन्य उपकरण भारतीय सियाचिन ग्लेशियर में मौजूद सैनिको के लिए खरीदना चाहती थी।

क्यों फेल हो गया मेक इन इंडिया ? क्या सरकार बिना सोचे समझे घोषणा करती है ? सरकार हमारे देश के उद्योग आरएनडी पर कब मेहनत करेंगे ? इन तमाम सवालों के जवाब जानने के लिए देखिए अशोक वानखेड़े की टिप्पणी ।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com