भक्त पुष्प बंगले में और भगवान वैकुण्ठ में, भक्तों को दर्शन देने निकलेंगे भगवान वेंकटेश

0
33
venktesh

इंदौर अनंत ब्रह्मांड में शेषनाग पर लक्ष्मी जी के संग विराजे प्रभु वेंकटेश ने लक्ष्मीनारायण स्वरूप में वैकुण्ठ में विराजित हो पुष्प बंगले में हजारों भक्तों की आंखों और ह्रदय को तृप्त कर दिया पावन सिद्ध धाम श्री वेंकटेश देवस्थान छत्रीबाग में चल रहे ब्रह्म उत्सव के छठवें दिन आज भव्य एवं दिव्य फूल बंगला सजाया गया जिसमें प्रभु वेंकटेश बालाजी श्री लक्ष्मी जी श्री रामानुज स्वामीजी और फूलों के झरोखों में विराजे अनंत कोटी 33 करोड़ देवताओं के दर्शन आज हजारों भक्तों ने किए लंबी-लंबी कतारों में अपनी बारी का इंतजार करते देवस्थान में किये।

पिछले 6 माह से प्लानिंग 20 दिनों की तैयारी 7 दिनों की मेहनत और 3 रात में 120 लोगों की टीम के साथ टेक्नोलॉजी ओर स्थापत्यकला के अदभूत सामंजस्य द्वारा 33 करोड़ देवता,33 करोड़ महल में ओर जिसमे जगन्नाथ जी के रथ के शिखर जैसे शिखर के दर्शन भी हो रहे थे जिसके दर्शन हजारो भक्त देर रात तक कतारबद्ध रूप में आनंद लेकर कर पाये।

उमाशंकर बियाणी,पवन भलिका, सूर्यप्रकाश झवर, अशोक डागा, बालमुकुन्द तोषनीवाल,कैलाश लड्डा,कैलाश मुंगड़ कमल शर्मा,ने बताया वृंदावन, बिहार, राजस्थान से आए 120 लोगों की टीम ने फूल बंगले को आज मूर्त रूप दिया मनोहर सोनी आशीष लड्ढा ऋषि शर्मा गोविंद राठी ने बताया कि जो केले अपना फल दे चुके है उन 500 किलो केले के तनों के उपयोग और मोगरा, गुलाब गेंदा चमेली जूही कुंद रजनीगंधाआर्केड जरबरा सहितकरीब 3000 किलो से अधिक फूलों जो कि वृन्दावन, आगरा जयपुर,कलकत्ता,लखनऊ से मंगवाए गए सभी कुल सामग्री 5 टन का प्रयोग किया गया छतों पर मोगरे और गुलाब की लड़ियों से सुंदर नक्काशी की गई और संपूर्ण मंदिर परिसर में पुष्प बंगला फूलों से सजाया गया था जिसमे भक्त खड़े होकर अपने आराध्य प्रभु वेंकएश को लक्ष्मी नारायण स्वरूप में निहार रहे थें। निज मंदिर में चांद सितारों के बीच प्रभु के दर्शन हो रहे थे गोविंद झवर,रितेश तोतला और परीक्षित जाजू शरद चिचानी आशीष बाहेतीकि 300 कार्यकर्ताओं की टीम सुगम दर्शन व्यवस्था के लिए जुटी हुई थी देर रात्रि तक टीम ने भक्तों को सुगमता से दर्शन कराए

इसके पूर्व प्रातः सत्र में प्रणय कलह लीला का आयोजन हुआ जिसमें भगवान रंगनाथ और श्रीदेवी भूदेवी संग प्रेम और कलह की लीला के दर्शन हुए जिस में रंग गुलाल अबीर भी उड़ाया गया और प्रभु के प्रेम रस में भक्त रंग गए।

एक भव्य सुंदर सजेधजे सिंघासन पर

परमपूज्य अनंतश्रीविभूषित श्रीमद्जगतगुरु रामानुजाचार्य श्रीनागोरियापिठाधिपति स्वामीजी श्रीविष्णुप्रपन्नाचार्य महाराज विराजमान होकर सभीभक्तो को आर्शीवाद प्रदान कर रहे थे हर भक्त भगवान और गुरुदेव से मिलने को आतुर नजर आ रहा था।

जब तक श्रद्धालु आते रहे तब तक दर्शन खुले रखे गए।।सभी श्रद्धालुओं के लिए रास्ते मे पेयजल,शरबत की व्यवस्था की गई थी ।बहुत ही आनंद से देर रात तक श्रद्धालू दर्शन करते रहे। भजन गायक राजेश सांखला गुरुदेव तेरी पतंग, सवारियों हे सेठ, सावरे आजा रे, ने सुमधुर प्रस्तुति दी रहे थे और भक्त झूम और नाच रहे थे। 4 जुलाई को फूल बंगले में प्रभु के दर्शन पुनः प्रातः 7:00 बजे से प्रारंभ हो जाएंगे जो शाम तक होंगे।

मध्य प्रदेश की सबसे बड़ी पारंपरिक गौरवशाली रथयात्रा 4 जुलाई को श्रीलक्ष्मी वेंकटेश देवस्थान से

रथ यात्रा समिति के संयोजक.भरत तोतला, पवन व्यास, गिरीश जाखेतिया, अंकित सोनी ने बताया कि अपराहन 4:30 बजे वेंकटेश देवस्थान छत्रीबाग से भव्य दिव्य रथ यात्रा निकलेगी। इंदौर पावनसिद्ध धाम श्रीलक्ष्मी – वेंकटेश देवस्थान छत्रीबाग में देश की तीसरी सबसे बड़ी रथयात्रा शनिवार 4 जुलाई को सायंकाल 4 बजे निकलेगी इस रथयात्रा में हजारों भक्तो को जनसैलाब प्रभु के दिव्य दर्शन करने उमड़ेगा।

भगवन वेंकटेश अपने भक्तों को दर्शन देने के लिए शहर में पूरे लाव लश्कर के साथ नगर भ्रमण पर निकलेंगे। श्रीलक्ष्मी वेंकटेश देवस्थान छत्रीबाग में परमपूज्य अनंतश्रीविभूषित श्रीमद्जगतगुरु रामानुजाचार्य श्रीनागोरियापिठाधिपति स्वामीजी श्रीविष्णुप्रपन्नाचार्य महाराज के सानिध्य में सप्तदिवसीय श्री ब्रम्होत्सव एव रथयात्रा महोत्सव मनाया जा रहा हे ।

यात्रा में भक्ति संगीत की मधुर गंगा प्रसिध भजन गायक द्वारकादास मंत्री हरिकिशन साबू, पीयूष भावसार, इलकल भजन मंडली वेंकटेश दशमेश मंडल वेंकटेश महिला मंडल सहित कई अन्य भजन मंडलीय प्रभु का गुड़ गान करेगी।

रथयात्रा मार्ग

रथयात्रा छत्रीबाग से प्रारंभ होकर नरसिंह बाज़ार , सीतलामाता बाज़ार , गोरकुण्ड चौराहा , शक्कर बाज़ार , बड़ा सराफा , पीपली बाज़ार , बर्तन बाज़ार , बजाजखाना , साठा बाजर से होते हुए पुनः मदिर पर आकर समाप्त होगी इस रथयात्रा के मार्ग में करीब 300 स्थानों पर मंचो से इस यात्रा का स्वागत पुष्प वर्षा से किया जाएगा साथ ही अनेक जगह प्रसाद का वितरण होगा।इस यात्रा में 200 कार्यकर्ता वाकी टाकी के साथ वाट्सअप पर व ग्रीन-रेड लाइट लगातार जानकारी अपडेट कर व्यवस्था को संभालेंगे।

रथयात्रा के ख़ास आकर्षण

यात्रा में स्वछता, बेटी बचाओ के सन्देश व पर्यावरण , गो सेवा, पर आधारित झाकी शामिल रहेगी।जो सभी को एक अच्छा संदेश देगी।

मुम्बई बेंड

मुंबई से आये 80 लड़के लड़कियों का समूह का बेंड पूरे मार्ग पर 6 – 7 घंटे तक विशेष प्रस्तुति देगा जिसमे बड़े बड़े / बड़े ढोल होंगे वाद्य होंगे।

रामानुज स्वामी द्वारा दिए गए संदेशो की दिखेगी झलक

रथयात्रा में रामानुज स्वामीजी की झांकिया सभी भक्तों को रामानुज संप्रदाय के सिद्धान्त और उनके द्वारा किये कार्यो का वर्णन का दर्शन होगा।रामानुज स्वामीजी के 24 अवतारों का होगा दर्शन। शहर के प्रसिद्ध बैंड बाजो के साथ ही 21 घोड़ो पर भगवा धार्मिक ध्वज पताका लिए युवा संवार होंगे साथ होंगे साथ ही बच्चो को विभिन स्वरूपो में तैयार कर बग्गी में बिठाया जाएगा ।

इसके पीछे रजत के ठाकुरजी की सवारी के वाहन के रूप में गरुड़ वाहन , हनुमान वाहन, अश्व वाहन, गज वाहन, मंगलगिरी होंगे इन वाहनों पर ठाकुरजी के चित्रजी विराजित रहेंगे। हरे राम – हरे कृष्ण भजन मंडली श्री रामानुज स्वामी पर आधारित झांकी के साथ संकीर्तन करते हुए चलेगी। वेंकटेश दशमेश मंडल की भजन मंडली जिसमे पीयूष भावसार पूर्व आचोर्यों की झांकी के साथ भजनों की गंगा प्रवाहित करेगी। 21 बग्गियों में देश भर से दिव्य देशो से पधारे संतगण आसीन रहेंगे।

अनेक दिव्य देशों से पधारे संत उनके भी होंगे यात्रा में दर्शन

इस वर्ष संतो की इंदौर ब्रम्होत्सव पर विशेष कृपा रही जो की अनेक पुरे देश भर से संत पधारे और सभी के दर्शन रथयात्र में होंगे श्री रंगनाथचार्य जी,श्रीवेंकटेशचार्य जी श्रीमाधव प्रपन्नाचार्य श्री,पुण्डरीक स्वामीजी श्री दिव्यांश जी,श्रीमुरारीनारायना चार्य जी।

इसके बाद द्वारका मंत्री की भजन मंडली भक्तों के सेलाब के साथ भजनों की रस गंगा प्रवाहित करेगी। इसके बाद परमपूज्य अनंतश्रीविभूषित श्रीमद्जगतगुरु रामानुजाचार्य श्रीनागोरियापिठाधिपति स्वामीजी श्रीविष्णुप्रपन्नाचार्य महाराज भक्तों को आशीर्वाद देते रथयात्रा मार्ग में पेदल चलेंगे और सभी भक्त उनके चरणों का पूजन कर पाएंगे।

ओर भक्तों द्वारा चरणों का पूजन किया जाएगा

दिव्य चांदी के रथ पर जिस पर प्रभु वेंकटेश विरजमान होकर निकलेंगे सभी भक्त अपने हाथों से खीचेंगे उसके आगे अनेक महिलाए ओर दंपति झाड़ू लगाते चलेंगे। प्रभु वेंकटेश के आगमन के लिए भक्त महिलाओं केशरिया नव परिधान पहनकर सड़कों पर गुलाब जल डाल कर सड़को को धोया जायेगा। नितिन तोतला, विजय सोमानी ने बताया कि इस रथयात्रा के पीछे युवाओं का एक बड़ा समूह सफाई करते हुए चलेगा पूरा कचरा गाड़ियों में एकत्रित होगा ।जिससे शहर की स्वछता बरकरार रहेगी और जो आदर्श उदाहरण प्रस्तुत करेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here