झील की खुदाई में निकली नंदी बैल की प्रतिमा, देख लोगों ने किया कुछ ऐसा…

0
108
nandi bel

मैसूर : कर्नाटक में मैसूर के पास एक सूखी झील से सैकड़ों वर्ष पुरानी भगवान शिव की सवारी नंदी बैल की दो प्रतिमाएं खुदाई में निकली। मैसूर से करीब 20 किमी दूर बसे अरासिनाकेरे की एक सूख चुकी झील में नंदी बैल की सदियों पुरानी प्रतिमाओं की यह जोड़ी खुदाई के दौरान मिली है। बताया जा रहा है कि खुदाई करके मूर्तियों को बाहर निकालने का काम यहां के स्थानीय निवासियों ने ही किया है। इसकी तस्वीरें सोशल मीडिया पर बहुत ज्यादा वायरल हो रही है।

तस्वीरों में साफ़ देखा जा सकता है कि ये मूर्तियां नंदी बैल की हैं। खबर के अनुसार, अरासिनाकेरे के बुजुर्ग इस झील में नंदी की प्रतिमाएं होने की बात करते थे। जब झील में पानी का स्तर कम होता था, तो कहा जाता था कि प्रतिमाओं का सिर नजर आता है। लेकिन इस बार जब नदी पूरी तरह सुख गई तो ये मूर्तिया बहार आई। उसके बाद स्थानीय लोगों ने झील की तीन से चार दिनों तक खुदाई की।

इस दौरान उन्होंने खुदाई का काम अच्छी तरह से करने के लिए जेसीबी मशीन भी मंगवाई। बता दे, करीब चार दिनों तक चली खुदाई के बाद झील की जमीन के अंदर दबी नंदी बैल की प्रतिमाओं को बाहर निकाल लिया गया है। इस बात की जानकारी लगने पर पुरातत्व विभाग के अधिकारियों की एक टीम भी वहां पहुंच चुकी है। बताया जा रहा है कि ये मूर्तियां विजयनगर काल के बाद की हैं। यह 16 वीं या 17 वीं शताब्दी की हो सकती हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here