Loksabha Election: इन 120 सीटों पर फूंक-फूंककर कदम रख रहे मोदी-शाह | PM Narendra modi & Amit Shah focus on UP-Bihar

0
32
modi with amit shah

लोकसभा चुनाव में अपने उम्मीदवारों को लेकर पार्टियां बहुत सावधानी बरत रही है। कोई भी सीट पर पार्टी किसी भी तरह का रिस्क नहीं लेना चाहती। यही कारण है कि भाजपा उत्तर प्रदेश और बिहार के लिए ख़ास तवज्जो दे रही है, क्योंकि इन दो राज्यों में भाजपा की सियासत की अग्निपरीक्षा है। गौरतलब है कि केंद्र की सत्ता का रास्ता इन दो राज्यों से ही होकर गुजरता है। ये 120 सीटें ही केंद्र के विजेता की तस्वीर साफ़ करती है।

भाजपा की बैठक में मंथन

इन दो राज्यों की 120 सीट की रेस जीतने के लिए पार्टी काफी रणनीति बना रही है। शनिवार को हुई पार्टी की बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमित शाह ने यूपी और बिहार की हर सीट की गहन समीक्षा की। इस रेस को जीतने के लिए बैठक में कुछ अहम् खिलाड़ियों के नाम निकलकर आए है।

इन नामों पर लिया फैसला

रविशंकर प्रसाद: पार्टी ने पटना साहिब से कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद को उम्मीदवार बनाने का फैसला लिया है। ख़ास बात तो यह है कि रविशंकर प्रसाद पहली बार चुनाव लड़ेंगे।

गिरिराज सिंह: बैठक में दूसरा नाम है केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह का। पार्टी ने इस चुनाव में इनकी सीट बदलकर इन्हें बेगूसराय से टिकट दिया है। गौरतलब है कि 2014 लोकसभा चुनाव में गिरिराज सिंह नवादा से चुनाव जीतकर संसद पहुंचे थे।

आर के सिंह: तीसरा अहम् नाम जो बैठक में निकलकर आया है वह है केंद्रीय मंत्री आर के सिंह का। पार्टी ने सिंह की सीट में कोई बदलाव नहीं किया है। 2014 में आरा से चुनाव जीतने के बाद पार्टी ने एक बार फिर उनपर भरोसा जताया है।

बिहार की 17 सीटों पर लड़ रही भाजपा

2019 लोकसभा चुनाव में भाजपा बिहार की 40 सीटों में से 17 सीटों से मैदान में उतरेगी। 2014 में पार्टी ने 30 सीटों पर चुनाव लड़ा था जिसमें से 22 पर जीत दर्ज की थी। जानकारी के मुताबिक, बीजेपी ने भागलपुर, सीवान, गोपालगंज, गया, झंझारपुर और बाल्मीकिनगर सीट जेडीयू को देने का फैसला किया है। इसमें भागलपुर को छोड़कर बाकी सभी सीटों पर बीजेपी की जीत हुई थी।

यूपी पर मंथन

बिहार के अलावा उत्तर प्रदेश में भी भाजपा के लिए बड़ी चुनौती है। बुआ-बबुआ की जोड़ी ने भाजपा को सत्ता से हटाने की कसम खा ली है। यूपी में त्रिकोणीय मुकाबले में भाजपा को कांग्रेस और एसपी-बीएसपी की जोड़ी को हराना आसान नहीं होगा। इस मुकाबले को कैसे जीता जाए इस पर पार्टी की चुनाव समिति आज मंथन करने वाली है। इस समिति में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, प्रदेश अध्यक्ष महेन्द्र नाथ पाण्डेय और दूसरे नेता भी शामिल हो रहे हैं। इस दौरान पीएम नरेंद्र मोदी की सीट को लेकर भी फैसला होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here