राजघराने के दिग्गज ज्योतिरादित्य पर भारी पड़ गई मोदी सरकार की लोकप्रियता | Ends of Scindia Family Political Dynasty at Guna and Gwalior Lok Sabha Seat…

0
54
Jyotiraditya-Scindia

अर्जुन राठौर

कांग्रेस ही नहीं प्रदेश भर के लोगों के लिए यह बात बेहद आश्चर्यजनक है कि शिवपुरी से कांग्रेस के दिग्गज नेता और महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया चुनाव हार गए हैं सवाल इस बात का है कि मोदी की लहर में कांग्रेस के इस सबसे मजबूत प्रत्याशी का किला कैसे धराशाई हो गया

क्योंकि ज्योतिरादित्य सिंधिया की हार का मतलब यह है कि ग्वालियर राजघराने का प्रभाव अब लगातार समाप्त होता जा रहा है और इस हार ने यह भी साबित कर दिया है राजघराने पर मोदी सरकार की लोकप्रियता भारी पड़ गई

शिवपुरी में ज्योतिरादित्य की पत्नी लगातार चुनाव कैंपेन में जुटी हुई थी और उन्हें कैंपेन में भारी जन समर्थन भी मिल रहा था इधर ज्योतिरादित्य उत्तर प्रदेश में व्यस्त थे वहां तो हासिल कुछ हुआ नहीं कांग्रेस को और इधर ज्योतिरादित्य की नैया भी डूब गई

कुल मिलाकर दिग्विजय सिंह और ज्योतिरादित्य की हार को कांग्रेसी आसानी से पचा नहीं पा रही है अगर सिंधिया घराने का इतिहास देखें तो माधवराव सिंधिया लगातार चुनाव जीतते रहे हैं और एक समय तो ऐसा आया था जब उन्होंने भाजपा के दिग्गज नेता अटल बिहारी वाजपेई को भी हरा दिया था माधवराव सिंधिया की अचानक मृत्यु के बाद ज्योतिरादित्य सक्रिय हुए और वे भी कांग्रेस में एक अलग ही ऊंचाई तक पहुंच गए लेकिन अब इस हार ने यह साबित कर दिया है कि जब चुनावी आंधी चलती है तो अच्छों अच्छों के तंबू उखड़ जाते हैं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here