Live : गुजरात के तट को छूकर निकल जाएगा तूफान, सेना अलर्ट

0
23

चक्रवाती तूफान ‘वायु‘ गुरुवार को गुजरात के तट से टकराएगा। बेहद गंभीर श्रेणी में रखे गए इस तूफान को लेकर दस जिलों में अलर्ट जारी कर दिया हैै, जबकि आपदा प्रबंधन की टीमें और सेना भी अलर्ट है। मौसम विभाग के मुताबिक तूफान के तट से टकराने का असर करीब 24 घंटे तक रहेगा। इस तूफान से मप्र, महाराष्ट्र और दिल्ली भी प्रभावित होगा। इधर, सुरक्षा की दृष्टि से रेलवे ने 70 टे्रनें रद्द कर दी है, जबकि 14 जून तक गुजरात के एयरपोर्ट से यात्री विमान के उड़ान भरने पर रोक लगा दी है।

भारतीय मौसम विभाग की वैज्ञानिक मनोरमा मोहंती का कहना है कि चक्रवाती तूफान वायु गुजरात से नहीं टकराएगा। यह वेरावल, पोरबंदर, द्वारका को छूकर निकल जाएगा। इसका असर तटीय क्षेत्रों पर दिखेगा क्योंकि हवाओं की तेज गति होगी और साथ ही भारी बारिश भी होगी।

इधर, तूफान के खतरे को देखते हुए निचले इलाकों के करीब 3.10 लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर भेजा गया है। राहत एवं बचाव कार्य के लिए एनडीआरएफ की 52 टीमों को तैनात कर दिया गया है। गृहमंत्री अमित शाह ने बताया कि तटरक्षक बल, नौसेना, सेना और वायु सेना की इकाइयों को तैयार रखा गया है और विमानों एवं हेलीकॉप्टरों की मदद से हवाई निगरानी की जा रही है। उन्होंने कहा कि इस तूफान के पोरबंदर तथा संघ शासित प्रदेश दीव के बीच कहीं पहुंचने की आशंका है।

पश्चिम रेलवे ने सुरक्षा की दृष्टि से 70 ट्रेनों को रद्द कर दिया और 28 ट्रेनों को गंतव्य से पहले ही रोकने का फैसला किया है। रेलवे ने ताजा बुलेटिन जारी कर बताया कि पश्चिम रेलवे ने चक्रवात वायु से होने वाली संभावित आपदा को देखते हुए मुख्यमार्ग की 70 रेलगाड़ियों को पूरी तरह निरस्त और ऐसी ही 28 ट्रेनों को आंशिक रूप से समाप्त करते हुये गंतव्य से पहले ही रोकने का फैसला किया है।

इसके अलावा गुजरात तट के नजदीक स्थित सभी बंदरगाहों और हवाई अड्डों पर ऐहतियात के तौर पर कामकाज फिलहाल रोक दिया है। सौराष्ट्र क्षेत्र के सभी हवाई अड्डे भी चक्रवात समाप्त होने तक बंद रहेंगे। वहीं क्षेत्र में स्थित तीर्थस्थलों के लिए बस सेवाएं भी रद्द कर दी गई हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here