Breaking News

क्या इस बार मिल पाएगा भाजपा के इन ‘साहब’ को टिकट

Posted on: 26 Oct 2018 17:36 by Surbhi Bhawsar
क्या इस बार मिल पाएगा भाजपा के इन ‘साहब’ को टिकट

मुकेश तिवारी
([email protected])

एक वक्त था, जब वह अखंड मध्यप्रदेश (छत्तीसगढ़ अलग नहीं हुआ था) की सभी 320 विधानसभा सीटों के टिकट वितरण में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करते थे। उनके इशारे पर कई टिकट हो और कट जाया करते थे। आज वह खुद एक विधानसभा सीट से चुनाव लड़ने का मन बनाए बैठे हैं। देखना है राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से भाजपा में आए इन भाई साहब को इस बार टिकट मिल पाता है या नहीं। पिछली बार भी इनका नाम टिकट के लिए खूब चला था लेकिन जब सूची आई तो उसमें नाम नहीं था।

बात भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता और मध्यप्रदेश के पूर्व संगठन महामंत्री कृष्ण मुरारी मोघे की हो रही है। सूत्र बताते हैं कि मोघे इस बार इंदौर या खरगोन जिले की किसी विधानसभा सीट से भाग्य आजमाना चाहते हैं। इंदौर में विधानसभा क्षेत्र क्रमांक 3 और राऊ विधानसभा सीट पर उनकी नजर है, वहीँ खरगोन जिले की बड़वाह विधानसभा सीट से चुनाव मैदान में उतरने की उनकी पुरानी इच्छा इस बार भी उभर आई है। क्षेत्र क्रमांक 3 में भाजपा की गुटबाजी चरम पर है। यहां क्षेत्रीय विधायक उषा ठाकुर और मध्यप्रदेश खनिज विकास निगम के पूर्व उपाध्यक्ष गोविन्द मालू के समर्थकों के बीच मारपीट हो चुकी है। यह मारपीट उस वक्त हुई जब मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान की जन आशीर्वाद यात्रा वहां से गुजरने वाली थी। यहां की गुटबाजी से भाजपा संगठन खासा परेशान है।

इसी तरह प्रदेश में भाजपा की लहर होने के बावजूद पिछली बार राऊ विधानसभा क्षेत्र में पार्टी को हार का सामना करना पड़ा था। यहां से फिलहाल कांग्रेस के कार्यवाहक प्रदेश अध्यक्ष जीतू पटवारी विधायक हैं। पार्टी यहां पटवारी को घेरने और सीट को फिर हथियाने के लिए बड़े नेता को चुनाव मैदान में उतारने का मन बनाए बैठी है। वहीँ खरगोन जिले की बड़वाह विधानसभा सीट से भाजपा के हितेंद्र सोलंकी तीसरी बार के विधायक हैं। मोघे 2004 में खरगोन से सांसद चुने गए थे। हालांकि बाद में लाभ के पद के फेर में उनकी सांसदी जाती रही और उपचुनाव में वह अरुण यादव से हार गए थे।

यूं तो मोघे सागर जिले के कुरवई के मूल निवासी हैं लेकिन भाजपा में रहते हुए उन्होंने काफी समय इंदौर में संगठन की जिम्मेदारी संभाली और सांसद बनने के पहले और बाद में खरगोन में उनकी सक्रियता हमेशा रही, खासकर बडवाह में। पिछली बार के विधानसभा चुनाव के समय भी इंदौर के महापौर रहते मोघे का नाम राऊ और बड़वाह दोनों ही विधानसभा सीट से चला था। रायशुमारी में उनका नाम उभरा भी था लेकिन आखिर में टिकट नहीं मिल पाया था। फिलहाल वह मध्यप्रदेश गृह निर्माण और अधो संरचना मंडल के अध्यक्ष है और उनके समर्थक दावा कर रहे हैं कि इस बार हमारे साहब को टिकट जरूर मिलेगा। उनके इस दावे में कितना दम है ये नवंबर के पहले सप्ताह में पता चल जाएगा, जब पार्टी अपने उम्मीदवारों की लिस्ट जारी करेगी।

लेखक वरिष्ठ पत्रकार और ghamasan.com के संपादक हैं।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com