स्वप्निल कोठारी पहले उम्मीदवार जिनके समर्थन में युवाओं की भीड़ आई

0
27
Swapnil Kothari

युवाओं में स्वप्निल कोठारी पूरे मध्यप्रदेश में देश के पहले ऐसे निर्दलीय उम्मीदवार हैं जिन्होंने अपना प्रचार खुद शुरू नहीं किया बल्कि उनके लिए एक बड़ा युवा वर्ग आगे आया है। अभी तो हर समाज और तबके के युवाओं में उनको लेकर उत्साह देखा जा रहा है। हर कोई कह रहा है कि कांग्रेस और भाजपा से हम परेशान हो चुके हैं हमें कोई विकल्प चाहिए।


हिंदुस्तान की राजनीति में अरविंद केजरीवाल के बाद इंदौर में हम बात करें तो पूर्व मंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता रहे स्वर्गीय सुरेश सेठ ने ऐसी हिम्मत की थी. वह शेर  का चुनाव चिन्ह लेकर निर्दलीय चुनाव मैदान में उतरे थे और जीत दर्ज की थी। अब वही हिम्मत स्वप्निल कोठारी दिखा रहे है। वह कह रहे है कि मैं लोगों के सहयोग से ही चुनाव लड़ूंगा। बस उनको जीने का हक चाहिए वह मैं दिला कर रहूंगा। उनको सुरक्षा का हक चाहिए, मैं दिला कर रहूंगा। युवाओं के लिए रोजगार और ट्रेनिंग की सबसे ज्यादा जरूरत है। उस जरूरत को मैंने समझा है इसलिए उनकी आवश्यकताओं को भी समझ लूंगा।

खजराना और आजाद नगर के मुस्लिम युवा इन दिनों सबसे ज्यादा बात स्वप्निल कोठारी की कर रहे हैं। सोशल मीडिया पर स्वप्निल को लेकर शेरो-शायरी और कविताओं का दौर शुरू हो गया है। यह दौर अब लगातार चलता रहेगा क्योंकि अधिकांश युवा उनके कॉलेज में पढ़ चुके हैं।

इन युवाओं के भरोसे ही स्वप्निल ने मैदान की कठिनाइयों को आसान बनाने की कोशिश शुरू की है। ऐसा कहा जा रहा है कि अल्पसंख्यक समाज के युवा जो सैकड़ों की संख्या में अभी से अलग-अलग जाकर प्रचार कर रहे हैं। कोठारी क काम इन युवाओं के कारण निर्धन लोगों के बीच पहुंच रहे है। सोशल मीडिया पर जो प्रचार चल रहा है उसके सबूत के तौर पर हम कुछ फोटों भी डाल रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here