नारी का मुक्ति संघर्ष!!! | Kolkata Vishwavidyalaya Prof. Amarnath World Class Book Nari ka Mukti Sangharsh

0
44
nari

कोलकाता विश्व विद्यलाय के प्रो डॉ अमरनाथ ने नारी मुक्ति पर विश्व स्तरीय अध्ययन कर एक अद्भुत किताब ‘ नारी का मुक्ति संघर्ष, ‘ लिखी है! नारी को धर्म जाति नस्ल लिंग और नैतिकता के नाम पर सारी दुनिया में सताया गया है!

सती, बाल विवाह, अनमेल विवाह, नियोग, देवदासी, अनिवार्य विधवापन, पतिवृता, वैश्यावृत्ति, बहु विवाह, कौमार्य परीक्षण, बच्चियों का खतना, हलाला, पर्दा, मासिक धर्म में कड़ाके की सर्दी में घर से बाहर करना आदि प्रथाओं द्वारा सताई गई नारी का विश्व इतिहास पढ़ कर आँखों में आँसूओं की धार लग जाती है!!!

पुरुष ने पहले नारी को आर्थिक गुलाम बनाया, फिर पितृ सत्तात्मक नैतिकता के नियम अपनी सुविधा अनुसार बनाए!!

फिर ईश्वर परलोक नैतिकता धर्म सती के नाम पर इतना सताया कि मानवता के आधे भाग को गुलाम या नैतिक बनाए रखने के चक्कर में वह इतना क्रूर हो गया कि छोटी -छोटी बच्चियों की भगनाश ( क्लाईटोरस) को काटकर योनि की सिलाई करने लग गया!!! योनि पर ताले जड़ने लगा!!!???

7 साल की बच्ची से 7 साल के बुढे की जब शादी होती होगी तब उस मासूम पर क्या गुजरती होगा!!! कल्पना से ही रोंगटे खड़े हो जाते हैं!!! जब सती के नाम पर किसी युवती को जिंदा आग में झोंक दिया जाता होगा, तब कथित ईश्वर और मानव की दया करुणा कहाँ मर जाती होगी!!!

ऐसे धर्म संस्कृति सभ्यता नैतिकता ईश्वर और परलोकवाद का सर्वनाश हो!!! जो नारी को इंसान न मान कर केवल पुरुष के अहंकार की तृप्ति का साधन मानते हो!!!

नारी मुक्ति के संघर्ष को समझने के लिए हर भारतीय को यह किताब एक बार अवश्य पढ़ना चाहिए!!!

आपका शुभाकांक्षी
स्वामी सत्यानंद महाराज
संस्थापक – विश्व हिंदू सत्य शोधक मिशन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here