जानिए, प्रेग्नेंसी में अचार खाने के फायदे और नुकसान!

प्रेग्‍नेंसी के दौरान यदि महिला जरूरत से ज्‍यादा खाना खाती है तो वह मोटापे का शिकार जल्दी होती है क्योंकि उसमें शारीरिक परिवर्तन तेजी से होते हैं।

0
92
pregnant

आपने अक्सर देखा होगा कि महिलाएं जब इमली या अचार खाने की बात करती हैं, तो लोग इस गर्भवती समझ लेते हैं। आपको बता दे, गर्भावस्था महिला के लिए एक ऐसी अवस्था होती है, जब उसे अपने स्वास्थ्य के साथ-साथ होने वाले बच्चे के स्वास्थ्य की भी चिंता करनी होती है। इसमें कुछ महिलाओं को खट्टा खाने का मन करता है तो कुछ का चटपटा तीखा खाने का मन करता हैं।

अचार, आइसक्रीम, गोलगप्पे ऐसी कई चीजें हैं, जिनकी इच्छा गर्भवती महिलाएं गर्भावस्था के दौरान उनका खाने का मन करता हैं। लेकिन प्रेगनेंसी के दौरान यदि किसी महिला का मन अचार जैसी किसी खट्टी चीज को खाने का करता है तो उसे कुछ सावधानी जरूर बरतनी चाहिए। प्रेग्नेंट महिला का मन जब किसी खास चीज को खाने का करता है तो उसे अंग्रेजी में क्रेविंग कहते हैं. इस समय उन्हें सबसे ज्यादा खट्टा या चटपटा खाने का मन करता है।

अचार खाने से लाभ –

  • गर्भवती महिलाओं को अचार का सेवन करते समय ध्यान रखना चाहिेए की वो इसका सेवन ज्यादा मात्रा में न करें। क्यों कि अचार और कई विभिन्न सब्जियां के ताजे अचार में विटामिन-ए, विटामिन-सी, कैल्शियम, आयरन, जैसे जरुरी विटामिन पाए। जो प्रेग्नेंट महिला की इम्युनिटी को मजबूत करने में उसकी मदद करते हैं।
  • अचार से पाचन क्रिया मजबूत होती हैं। अचार में अच्छे बैक्टीरिया मौजूद होते हैं, जो गर्भवती स्त्रियों की आंत में पहुंचकर गुड बैक्टीरिया को बढ़ाने में मदद करता है।
  • गर्भवती महिला की सेहत के लिए शरीर में पोटैशियम, सोडियम जैसे खनिज तत्वों का बैलेंस रहना बहुत जरुरी होता है। अचार का सेवन करने से बॉडी में खनिज तत्वों का बैलेंस बनाए रखने में मदद मिलती है।

अचार से होने वाले नुकसान –

  • अचार में सोडियम की मात्रा अधिक होने पर गर्भवती महिला को ब्लड प्रैशर की समस्या हो सकती है। जो मां के साथ गर्भ में पल रहे शिशु के लिए भी नुकसानदायक हो सकती है।
  • अचार का अधिक सेवन करने पर गर्भवती महिला को एसिडिटी, सीने में जलन जैसी परेशानियां भी झेलनी पड़ सकती हैं।
  • शरीर में पानी की कमी की वजह से गर्भवती स्त्री को बॉडी में सूजन की समस्या भी हो सकती है। दरअसल अचार का अधिक सेवन करने पर बॉडी में सोडियम की मात्रा अधिक होने लगती है जिससे गर्भवती महिला को शरीर में सूजन महसूस होने लगती है।
  • प्रेग्‍नेंसी के दौरान यदि महिला जरूरत से ज्‍यादा खाना खाती है तो वह मोटापे का शिकार जल्दी होती है क्योंकि उसमें शारीरिक परिवर्तन तेजी से होते हैं।
  • जब भी क्रेविंग हो, एक ग्लास पानी पिएं। गर्भावस्‍था में कई बार डिहाइड्रेशन के कारण भी खाने की इच्‍छा होती है। इसलिए प्रेग्‍नेंसी में ज्‍यादा पानी पीने की सलाह दी जाती है। कुछ-कुछ समय के अंतराल पर पानी पीते रहें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here