Breaking News

जानिए प्रज्ञा ठाकुर साध्वी प्रज्ञा कैसे बनी | Know how Pragya Thakur become ‘Sadhvi Pragya’

Posted on: 17 Apr 2019 15:23 by rubi panchal
जानिए प्रज्ञा ठाकुर साध्वी प्रज्ञा कैसे बनी | Know how Pragya Thakur become ‘Sadhvi Pragya’

भोपाल से पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह का मुकाबला करने के लिए भारतीय जनता पार्टी साध्वी प्रज्ञा को मैदान में उतार रही है| प्रज्ञा ठाकुर का नाम मालेगांव ब्लास्ट की वजह से चर्चा में रहा है|

आइए जानते हैं कि प्रज्ञा ठाकुर साध्वी प्रज्ञा कैसे बनी, प्रज्ञा ठाकुर मध्य प्रदेश के मध्यम वर्गीय परिवार से संबंधित रही है और उनका ज्यादातर समय चंबल के भिंड क्षेत्र में गुजरा उनके पिता आयुर्वेदिक डॉक्टर थे और वे संघ की पृष्ठभूमि से जुड़े रहे वे संघ के प्रचारक भी थे यही वजह है कि प्रज्ञा को पारिवारिक माहौल में संघ की पृष्ठभूमि मिली और धीरे-धीरे वे भी संघ की गतिविधियों में हिस्सा लेने लगी स्वामी अवधेशानंद जी से मुलाकात के बाद वे उनसे बहुत प्रभावित हुई और उनके कारण प्रज्ञा के जीवन में कई बदलाव आए|

वह बाद में सन्यासी बन गई और उन्होंने अपना नाम साध्वी प्रज्ञा कर लिया इससे पहले वे प्रज्ञा ठाकुर थी| वे विश्व हिंदू परिषद की दुर्गा वाहिनी में भी सक्रिय रही और उनकी सबसे बड़ी विशेषता यह रही कि वे बेहद भड़काऊ भाषण देती थी बाद में उन्होंने राष्ट्रीय जागरण मंच भी बनाया लेकिन 15 अक्टूबर 2008 का दिन उनके लिए बड़ा दुर्भाग्यपूर्ण रहा और वे मालेगांव ब्लास्ट मामले में एटीएस द्वारा पकड़ ली गई ऐसा बताया जाता है कि एटीएस ने उन्हें लगातार यातनाएं दी और उनके कई नारको और पॉलीग्राफी टेस्ट भी हुए उनकी शारीरिक हालत भी बहुत खराब होती गई और धीरे-धीरे उनकी हालत इतनी खराब हुई कि उन्हें व्हीलचेयर पर बैठना पड़ा ।25 अप्रैल 2017 को कोर्ट ने उन्हें बेल पर रिहा किया और बाद में मालेगांव ब्लास्ट मामले से कोर्ट ने उन्हें पूरी तरह से बरी कर दिया|

कुल मिलाकर साध्वी प्रज्ञा का एक हिंदू चेहरा रहा है और हिंदूवादी संगठनों से जुड़े रहने के कारण वह एटीएस के निशाने पर भी रही थी बहरहाल अब उनका मुकाबला दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह से होने वाला है देखना यही है कि इस मुकाबले में क्या होता है|

Read more : भाजपा कार्यालय पहुंचीं साध्वी प्रज्ञा, बंद कमरे में बनाई रणनीति | Sadhvi Pragya reached BJP office in Bhopal

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com