इस गांव में श्राप माना जाता है करवा चौथ, इसलिए नहीं करता कोई भी यह व्रत

0
51

करवा चौथ का व्रत सुहागिन महिलाएं अपने पति की लंबी आयु के लिए रखा जाता है लेकिन एक गांव ऐसा भी जहां पर कोई भी महिला यह व्रत नहीं रखती है। यह वृत इस गांव में शापित माना जाता है। यह परंपरा वर्षों से चली आ रही है। करवा चौथ के दिन जहां देश भर में करवा चौथ की धूम होगी वहीं मथुरा के गांव सुरीर में सन्नाटा पसरा रहेगा। आइए जानते है इस गांव के बारे में।

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार सती के श्राप से बचने के लिए इस व्रत को रखने से महिलाएं परहेज करती हैं। गांव के मोहल्ला बाघा में ठाकुर समाज की महिलाएं वर्षों से यह व्रत नहीं करती हैं। यहां आने वाली नवविवाहिताओं कि करवा चौथ करने कि हसरत दिल में ही रह जाती है।

गांव कि ही एक विवाहिता स्त्री का कहना है कि शादी के बाद गांव में आने पर पता चला कि यहां यह व्रत नहीं रखा जाता हैं। एक दूसरी महिला का कहना था कि इस परंपरा को तोडने की हिम्मत करना तो दूर सोचना भी पाप है। यह हम सभी महिलाओं के दिलो दिमाग में गहरे से बैठा हुआ है। जब यह परंपरा इतने लम्बे समय से निभाई जा रही है तो इसका पालन करना ही ठीक है। इस परंपरा के पीछे जरूर कोई मजबूत तथ्य छिपा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here