कर्नाटक : अब तक कोई भी गठबंधन पूरा नहीं कर पाया कार्यकाल, दो सालों में गिर गई सरकार

0
53

बेंगलुरू : कर्नाटक में कांग्रेस जेडीएस गठबंधन वाली सरकार मंगलवार को गिर गई है। राज्य के मुख्यमंत्री कुमार स्वामी ने विधानसभा में अपना फ्लोर टेस्ट दिया था। जिसमें वे सफल नहीं हो पाए। उनके समर्थन में मात्र 99 वोट ही पड़ पाए वहीं विपक्ष के पाले में 105 वोट पड़े।

बता दे कि यह पहली बार नहीं है जब कर्नाटक में कोई गठबंधन वाली सरकार गिरी हो इससे पहले जितनी भी गठबंधन वाली सरकार आई है वो अपना कार्यकाल पूरा नहीं कर पाई और गिर गई।

इससे पहले 1983 में जनता पार्टी बीजेपी लेफ्ट और अन्य दलों ने मिलकर सरकार चलाई थी जो केवल 1 साल 354 दिन में चल पाई थी। वहीं 2004 में भी कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन वाली सरकार बनी थी लेकिन यह सरकार सिर्फ दो साल तक ही चल पाई और 2006 में जेडीएस ने कांग्रेस से अपना समर्थन वापस ले लिया था। जिसके बाद प्रदेश में बीजेपी- जेडीएस गठबंधन वाली सरकार बनी जिसमें कुमारस्वामी मुख्यमंत्री बनाए गए और बीएस येदियुरप्पा उप मुख्यमंत्री बनाए गए थे।

ये सरकार एक समझौते के तहत बनाई गई थी जिसमें कुमारस्वामी पहले 20 महीनों के लिए मुख्यमंत्री रहंगे और बीएस येदियुरप्पा अगले 20 महीनों के लिए भाजपा के मुख्यमंत्री बनाए जाएंगे, लेकिन बीजेपी-जेडीएस गठबंधन भी टूट गया और पुनः चुनाव करवाए गए।

वहीं मौजूदा सरकार की बात करें तो ये कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन वाली सरकार थी जो 2018 में बनी थी। लेकिन मौजूदा सरकार भी अपना कार्यकाल पूरा नहीं कर पाई और करीब 14 महिनों में ही गिर गई।

गौरतलब हे कि कर्नाटक में बीते कई दिनों से सियासी नाटक चल रहा था, जिसके बाद आज सीएम कुमारस्वामी ने विधानसभसा में विश्वास प्रस्ताव पेश किया था। लेकिन वे फ्लोर टेस्ट में पास नहीं हो पाए और कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन वाली कुमारस्वामी सरकार गिर गई.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here