कर्नाटक: स्पीकर कुमार की राज्यपाल को चिट्ठी, कहा- 13 में से 8 इस्तीफे गैरसंवैधानिक

0
35

बेंगलुरू : कनार्टक में जारी सियासी संकट के बीच कांग्रेस और जेडीएस सरकार बचाने की कोशिश में जुट गई है। कांग्रेस-जेडीएस के 13 विधायकों द्वारा इस्तीफा दिए जाने के बाद आज सबकी निगाहे राज्य के विधानसभा अध्यक्ष आर. रमेश कुमार के फैसले पर टिकी हुई थी। जिसके बाद अब विधानसभा अध्यक्ष ने कहा है कि इस्तीफा देने 13 विधायकों में से 8 विधायकों का इस्तीफा गैर-संवैधानिक है। बाकी बचे 5 विधायकों को मैने मेरे सामने पेश होने के लिए कहा है। पहले उनकी बात सुनी जाएगी जिसके बाद की काई कर्रवाई होगी।

इससे पहले रमेश कुमार ने कहा था कि जिस भी विधायक को इस्तीफा देना है उसे पहले मेरे पास आना होगा। अगर पोस्टल से ही इस्तीफे मंजूर हो सकते हैं तो मेरा क्या काम है। उन्होने कहा, इसके लिए वक्त की कोई पाबंदी नहीं है। मै नियमों के अनुसार ही फैसला लूंगा।

इधर कांग्रेस भी सरकार बचाने की कवायद में जुट गई है जिसके चलते पार्टी के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद को कर्नाटक भेजा गया है। वह आज शाम तक बेंगलुरू पंहुचेंगे। वहीं भाजपा की शोभा करंदलाजे का कहना है कि ‘अब हमारी संख्या कांग्रेस-जेडीएस विधायकों से अधिक है। हम करीब 107 हैं, उनकी संख्या 103 है। मुझे लगता है कि राज्यपाल को सरकार बनाने के लिए भाजपा को बुलाने का फैसला करना चाहिए।’

वहीं राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता सिद्धारमैया ने कर्नाटक में जारी सियासी उथापुथ्ल के लिए बीजेपी को जिम्मेदार ठहराया है। उन्होने कहा, ‘सरकारों को अस्थिर करने की भाजपा की आदत हो गई है। ये अलोकतांत्रिक है, लोगों ने भाजपा को सरकार बनाने का जनादेश नहीं दिया है। लोगों ने हमें अधिक वोट दिए हैं। कांग्रेस और जेडीएस दोनों को एकसाथ 57 फीसदी से अधिक वोट मिले हैं।’

गौरतलब है कि कांग्रेस-जेडीएस ने सरकार को बचाने के लिए नए मंत्रिमंडल के गठन की प्रकिया शुरू कर दी है। ऐसे में कांग्रेस -जेडीएस कोटे के मंत्रियों ने इस्तीफा दे दिया है। माना जा रहा है कि कांग्रेस-जेडीएस के बागी हुए विधायकों को मंत्रीमंडल में पद भी दिया जा सकता है।

मालूम हो कांग्रेस-जेडीएस के 13 विधायकों द्वारा इस्तीफा दिए जाने के बाद कर्नाटक सरकार पर संकट गहरा गया है। वहीं निर्दलीय विधायक नागेश ने भी अपना मंत्री पद छोड़ते हुए समर्थन वापस लेकर सरकार के सामने मुश्किलें खड़ी कर दी है और समर्थन देने की घोषणा की

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here