कर्नाटक : उपचुनाव में भाजपा को जीतनी होगी 6 सीटें, नहीं तो अल्पमत में आ जाएगी सरकार

0
67

नई दिल्ली। देश की सबसे बड़ी पार्टी भाजपा मुसीबत में घिरती जा रही है। महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनाव में उम्मीद के मुताबिक परिणाम सामने नहीं आए। इतना ही नहीं, महाराष्ट्र में 30 साल पुराना शिवसेना से गठबंधन टूट गया, तो झारखंड विधानसभा चुनाव से पहले रामविलास पासवान की पार्टी एलजेपी ने गठबंधन से बाहर होकर अपने दम पर चुनाव लड़ रही है। इसी बीच कर्नाटक सरकार पर संकट खड़ा हो गया है। कर्नाटक में कांग्रेस और जेडीएस के 17 अयोग्य विधायकों अयोग्य मानते हुए चुनाव लड़ने की अनुमति दे दी है।

अब 5 दिसंबर को कर्नाटक में 15 सीटों पर होने वाले उपचुनाव में विधायक चुनाव लड़ सकते हैं। सुप्रीम कोर्ट फैसला सुनाते हुए कहा कि स्पीकर को यह शक्ति नहीं है कि विधायकों को उपचुनाव लड़ने से रोके। सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में यह भी कहा कि विधायकों को अयोग्य करार देने का फैसला सही तो है, लेकिन उन्हें 2023 तक अयोग्य करार देना गलत है। अब सुप्रीम कोर्ट का निर्णय आने के बाद कर्नाटक की सियासत गर्मा गई है। 224 विधानसभा सीट वाले राज्य में फिलहाल 207 विधायक है और 106 विधायकों के समर्थन से भाजपा की सरकार चल रही है।

अब 15 सीटों पर होने वाले उपचुनाव में भाजपा को छह सीटें किसी भी हालत जीतनी होगी, तभी सरकार बनी रह सकता है, नहीं अल्पमत में आने के कारण सरकार गिर सकती है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक येदियुरप्पा सरकार को हर हालत में छह सीटों पर जीत दर्ज करनी होगी। ऐसा नहीं होने पर भाजपा सरकार अल्पमत में आ जाएगी। वर्तमान में विधानसभा में बहुमत के लिए 104 विधायकों की जरुरत है जबकि भाजपा को 106 विधायकों का समर्थन प्राप्त है। आगामी 15 विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव के बाद बहुमत का आंकड़ा बढ़कर 112 हो जाएगा। भाजपा को अपनी सरकार बचाने के लिए छह और विधायकों के समर्थन की जरुरत पड़ेगी।

कर्नाटक विधानसभा की मौजूदा स्थिति
कुल सीट-224
खाली सीट-17
वर्तमान में विधानसभा में कुल विधायक- 207
वर्तमान में बहुमत- 104
भाजपा़ -106
कांग्रेस-66
जेडीएस-34
अन्य-1

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here