Breaking News

‘मान गए अर्णब’- वरिष्ठ पत्रकार जयप्रकाश चौकसे के कॉलम पर पत्रकार मिलिंद मजूमदार की तीखी टिप्पणी

Posted on: 10 May 2018 18:11 by Lokandra sharma
‘मान गए अर्णब’- वरिष्ठ पत्रकार जयप्रकाश चौकसे के कॉलम पर पत्रकार मिलिंद मजूमदार की तीखी टिप्पणी

पत्रकार मिलिंद मजूमदार की कलम से

फिल्मों के इनसायक्लोपिडिया और अप्रतिम कॉलमिस्ट जयप्रकाश चौकसे का आज का कॉलम पूरी तरह से रिपब्लिक न्यूज चैनल के मालिक अर्णब गोस्वामी को समर्पित है। जिस तरह मोदी विरोधी रवीश कुमार,पुण्यप्रसून वाजपेयी,राजदीप सरदेसाई और बरखा दत्त को हाथोहाथ लेते हैं, उसी तरह मोदी समर्थक रजत शर्मा,सुधीर चौधरी और अर्णब गोस्वामी को पसंद करते हैं।

रजत शर्मा तो फिर भी थोड़ा निष्पक्ष दिखते हैं,लेकिन बकाया तो मोदी विरोधियों पर पिल पड़ते हैं। बात करें अर्णब की। जब तक वे टाइम्स नाऊ में थे, हम उनका न्यूज ऑवर देखते थे। हम से मतलब मैं और स्व.पिताजी,लेकिन खुद का चैनल लॉच होने के बाद अर्णब को कम ही देखा।

 

चूंकि टाइम्स नाऊ की बहस में पैनलिस्ट बेहतरीन आते थे,इसलिए उसे देखना पुराता था। हालांकि तब भी लगता था कि अर्णब किसी को बोलने नहीं दे रहे हैं। एक तरह से वे दादागिरी से एंकरिंग करते थे। उनका मुरीद होना मुश्किल है,लेकिन वे इतने महत्वपूर्ण कभी नहीं लगे कि उन पर कमेंट किया जाए।

 

अब इसलिए लिखना पड़ रहा है कि श्री चौकसे ने उन पर आज का पूरा कॉलम समर्पित किया है। अर्णब को उधेडऩे के दौरान वे बीच बीच में कुछ लाइन फिल्मों की भी ले आए ताकि फिल्मी कॉलम में अर्णब की धुलाई जस्टिफाई दिखे। हमारे चौकसे महाराज को जवाहर लाल नेहरू की तर्क संगत आलोचना भी नही पचती।

Must read :- यादों में आपातकाल छात्रों की हुंकार ने सिंहासन हिला दिया, जयराम शुक्ल की कलम से

वे कई बार नेहरू को गांधी से भी आगे कर देते हैं। वे मोदी को अहंकारी कहते हैं। वे यह भी कहते हैं कि अर्णब भी अहंकारी हैं,लेकिन खुद श्री चौकसे प्रधानमंत्री को रक्त पिपासा रखने वाला, हिसंक, बौने कद का, लोगों को परेशान कर आसूरी आनंद लेने वाला, ना जाने क्या क्या कहते हैं।

 

ऐसा करते वक्त वे तू-तड़ाक की भाषा का प्रयोग करने से भी नहीं हिचकिचाते। वे नरेंद्र मोदी को हुक्मरान वैसे ही कहते हैं,जैसे कि वे सनकी तानशाह हो। उनके हुक्मरान में घृणा झलकती है। इतनी घृणा की वे कई बार आवाम को भी कोसने लगते थे कि इन कमअक्लों को जीता कैसे दिया।

आजकल वे राष्ट्र के नाम संबोधन भी अक्सर देते नजर आते हैं। कल उनका सुझाव था कि मनमोहन सिंह को फिर पीएम इन वेटिंग घोषित किया जााए। यह नाचीज उनका अनन्यतम प्रशंक है,हिंदी में वैसा कॉलम पहले कभी नहीं आया। जयप्रकाश चौकसे का कॉलम भास्कर की यूएसपी है,लेकिन एसा तब है,जब वे विशुध्द फिल्मी रहें।

 

बढ़ती उम्र के कारण चौकसे सर हताश हैं,जिन छोटे कद के,मतिमंद हीन राष्ट्रवादियों को वे सत्ता के लायक नहीं मानते थे,वे आज पूर्ण बहुमत से सत्तासीन हैं। सरजी को यह भी लगता है कि कहीं वे 2019 में फिर नहीं जीत जाएं

बहरहाल, चौकसे सर जैसे जीनियस ने अर्णब पर कॉलम समर्पित किया ये अर्णब की उपलब्धी है। मान गए अर्णब गोस्वामी को।

Must read :- मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान के नकलची मंत्री

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com