एक देश एक ध्वज का सपना साकार, जम्मू-कश्मीर सचिवालय पर लहराया तिरंगा

श्रीनगर सचिवालय से राज्य का झंडा हटा लिया गया है। पिछले हफ्ते तक वहां दोनों झंडे एक साथ लगे हुए थे लेकिन अब राज्य में केवल राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा लहराएगा।

0
87
jammu-kshmir

श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर से अनिछेद 370 ख़त्म होने के बाद राज्य को मिले सभी विशेषाधिकार ख़त्म हो गए है। राज्य का जो अलग झंडा था वो भी अब नहीं रहेगा। श्रीनगर सचिवालय से राज्य का झंडा हटा लिया गया है। पिछले हफ्ते तक वहां दोनों झंडे एक साथ लगे हुए थे लेकिन अब राज्य में केवल राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा लहराएगा।

एक अधिकारी ने बताया कि अब जम्मू-कश्मीर के सभी सरकारी दफ्तरों में तिरंगा ही लहराया जाएगा। अनुच्छेद 370 ख़त्म होने के बाद राज्य के सभी विशेषाधिकार ख़त्म हो गए है। अब यहां भी भारतीय संविधान लागू होगा।

गौरतलब है कि अनुच्छेद 370 लागू होने के बाद जम्मू-कश्मीर में देश का संविधान लागू नहीं होता था। इसके अलावा राज्य में पहले किसी बाहरी शख्स के जमीन खरीदने पर भी पाबंदी थी। यह प्रावधान भी खत्म हो गया है। अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद अब वहां भारतीय संविधान लागू होगा। सरकारी इमारतों पर तिरंगा लहराएगा और भारतीय दंड संहिता का पालन होगा।

मोदी सरकार ने पांच अगस्त को जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 ख़त्म करने का फैसला लेते हुए जम्मू-कश्मीर और लद्दाख को अलग-अलग केंद्रशासित प्रदेश बना दिया था। इससे पहले सुरक्षा व्यवथा को देखते हुए घाटी में 35 हजार से ज्यादा सुरक्षा बलों को तैनात किया गया है।

हालांकि सरकार के इस फैसले से घाटी में ऐसी कोई भी अप्रिय घटना नहीं घटी। सरकार के इस फैसले से सबसे ज्यादा किसी को तकलीफ हुई है तो वह है पाकिस्तान। पाकिस्तान इस फैसले के बाद से बौखला गया है और लगातार इस मामले को अंतर्राष्ट्रीय मंच पर उठाने की कोशिश कर रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here