Breaking News

…तो जिराती संन्यास ले लेंगे….केसरिया शिविर का नया रंग !

Posted on: 09 Nov 2018 17:55 by Surbhi Bhawsar
…तो जिराती संन्यास ले लेंगे….केसरिया शिविर का नया रंग !

सतीश जोशी

मुझे इस टिप्पणी पर पिछला विधानसभा चुनाव याद आ गया। नरेन्द्र मोदी की लहर थी, फिर भाजपा, फिर शिवराज की बहार के गीत बज रहे थे। चुनावी संग्राम में जीतू पटवारी की नुक्कड़ सभाओं, मोहल्ला भंडारों में कई फूल छाप कांग्रेसी मनोयोग से लगे थे, राऊ की गलियों, इंदौर के वार्ड, गांवों की चौपालों पर जीतू की जीत के लिए लगने वाले भाजपाई जीतू की हार में लगे थे। कमान संभाल रहे वर्मा बंधुओं को सूचना देने वाले भाजपाई हाथ मल कर रह गए और भंडारों में इधर के वोट उधर टपकने लगे। मोदी लहर में इंदौर की सारी सीटें जीतने वाले भाजपाई राऊ में पराजय की बांसुरी प्यार से बजा रहे थे। कांग्रेस से ज्यादा भाजपा की हार पर भाजपा खुश थी। यह पहली बार दिखा था कि केसरिया शिविर तिरंगी मिठाई बांट रहा था। और आज जीतू जिराती कह रहे हैं कि मधु वर्मा जीतू पटवारी से हार गए तो राजनीति से सन्यास ले लूंगा। बाप रे बाप गजब का त्याग है, जीते- हारे कौन और बलिदान करे कौन? केसरिया शिविर का यह अलग ही रंग है।

भाजपा के बारे में पिछले चुनाव में यह धारणा टूटी थी कि भाजपा का वोटर पार्टी विचारधारा से जुड़ा होता है वह कहीं ओर किसी दूसरे के साथ जा नहीं सकता। भाजपा के पुण्य पर वर्मा बंधुओं की तिकड़म भारी पड़ गई और एक जीतू हार गया दूसरा जीत गया। राऊ विधानसभा में यह कमाल देखा था, उसी कमाल की याद दिला दी जीतू जिराती ने यह कहकर कि मधु वर्मा जीतू पटवारी से हार गए तो मैं सन्यास ले लूंगा। जीतू जिराती याद रखिये कोई भी जीते अब राऊ की राजनीति में आप सिर्फ बयान देने से ज्यादा अहमियत नहीं रखते हो, जीतू पटवारी जीत गए तब भी क्या फर्क पड़ेगा और हार गए तो तुम तो पांच साल मधु भैया के मंच पर एक कार्यकर्ता की तरह पुकारे जाओगे। सन्यास सरीखी जिंदगी मुबारक हो जीतू जिरातीजी आपको।

satish-Joshi

लेखक वरिष्ठ पत्रकार हैं.

 

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com