बीमारी से जूझते हुए जेट एयरक्राफ्ट मेंटेनेंस इंजिनियर के बेटे की मौत हो गई | Jets Aircraft Maintenance Engineer’s son Died

0
62
jet viman

गिरीश मालवीय

जेट एयरवेज के कैप्टन अमित राय सुबह के वक्त अपने काम पर जाने की तैयारी कर रहे थे कि उनकी फोन की स्क्रीन पर नोटिफिक्शन की आवाज आई उन्होंने व्हाट्सप्प खोल कर देखा तो कंपनी के एक एयरक्राफ्ट मेंटेनेंस इंजिनियर का एक संदेश उन्हें वॉट्सऐप ग्रुप पर मिला, जिसमें उन्होंने एप्लास्टिक एनीमिया से जूझ रहे अपने बेटे के लिए आर्थिक मदद मांगी थी। ……इस बीमारी में इंसान के शरीर में नए रक्त का बनना बंद हो जाता है…….इंजिनियर ने अपने HR को मेसेज भेजा था…………… ‘मैंने एचआर से यह गुजारिश की है कि वह मेरी तीन महीने की सैलरी रिलीज कर दे मुझे मेरे बेटे के इलाज के लिए अर्जेन्ट 25 लाख रुपयों की जरूरत है एच आर ने मुझे पैसे देने से इंकार कर दिया है मेरे पास अपने सभी साथियों से इस मुश्किल वक्त में मदद करने की अपील के अलावा कोई चारा नहीं हैं।’

सन्देश पढ़ कर अमित राय स्तब्ध रह गए। ……….लेकिन जेट में तो हर एम्प्लॉई के आगे इसी तरह का आर्थिक संकट मुँह बाए खड़ा था वो लोग क्या मदद कर पाते लाख कोशिशों के बाद भी पैसे की कमी से जूझ रहा मैनेजमेंट और पायलट फंड नहीं जुटा सके और बीमारी से जूझते हुए उस एयरक्राफ्ट मेंटेनेंस इंजिनियर के बेटे की मौत हो गई।

जेट से जुड़े 23 हजार लोगो की रोजी रोटी एक झटके में छिन गयी हैं,…… अपने हवाई टिकट रद्द करने वालो का साढ़े तीन हजार करोड़ रुपया जेट एयरवेज का टॉप ऑफिशियल दबा के बैठ गया हैं…….. कही कोई सुनवाई नही हो रहीं हैं……..

एक आदमी ने सबको इतना पागल बना रखा है कि जनसरोकार से जुड़े मुद्दों की कोई बात तक करने को तैयार नही है ………..मीडिया तो बिक ही चुका है लेकिन सोशल मीडिया पर भी क्या मुद्दे चलेंगे यह भी सत्ताधारी दल डिसाइड कर रहा है…………

आज किसान हमारे डिस्कशन में क्यो नही है? आज रोजगार हमारे डिस्कशन में क्यो नही है? लगातार महँगी होती शिक्षा व्यवस्था पर कोई बात क्यो नही कर रहा है?
क्यो हमारे डिस्कशन में आजम खान की चटखारेदार भाषा मुद्दा बन जाती है ?………कभी इस बारे में सोचा है आपने?

Read More:अब इंदौर-मुंबई को कनेक्ट करेगी एयर एशिया

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here