अंतर्राष्ट्रीय महिला साहित्य समागम में प्रसिद्ध लेखिका जया सरकार ने कहा, अहिल्याबाई के शहर में इतना बड़ा आयोजन गर्व की बात है

इस कविता में स्त्री के अस्तित्व और उस पर उठते सवालों को रेखांकित किया गया है जया सरकार ने कहां की इंदौर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ से उनका गहरा रिश्ता रहा है उनका जन्म तो छत्तीसगढ़ में हुआ है लेकिन मध्य प्रदेश कोई भी उनका गहरा नाता है

Indore: स्त्री अस्मिता को लेकर प्रसिद्ध लेखिका जया सरकार ने कहा कि अहिल्याबाई से लेकर मंडन मिश्र की पत्नी तक ने स्त्री अस्मिता और स्त्री की गरिमा को समय-समय पर साबित किया है उन्होंने कहा कि गंगूबाई काठियावाड़ी भी स्त्री अस्मिता का प्रतीक है इस मौके पर उन्होंने एक सशक्त कविता भी सुनाई।

Must Read- अंतर्राष्ट्रीय महिला साहित्य समागम: प्रवासी साहित्य को मुख्यधारा के साहित्य को समझना होगा: शार्दूला नोगजा

इस कविता में स्त्री के अस्तित्व और उस पर उठते सवालों को रेखांकित किया गया है जया सरकार ने कहां की इंदौर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ से उनका गहरा रिश्ता रहा है उनका जन्म तो छत्तीसगढ़ में हुआ है लेकिन मध्य प्रदेश कोई भी उनका गहरा नाता है उन्होंने कहा कि स्त्री की अस्मिता को समझने के लिए हमें उन पात्रों को भी देखना होगा जिन्होंने संघर्ष का जीवन जिया है । इससे पहले लेखिका ज्योति जैन ने अपनी लघु कथाओं के माध्यम से बताया कि किस तरह से उनके पात्र अपने जीवन को जीने के लिए संघर्ष करते हैं उन्होंने कहा कि आज का महिला लेखन वास्तव में बहुत सार्थकता साबित कर रहा है ।