ताजा जानकारियों के अनुसार जम्मू कश्मीर (Jammu and Kashmir) के शोपियां (Shopian) जिले में एक बार फिर आतंकियों ने कायराना हरकत को अंजाम दिया है। दरअसल शोपिया जिले में अज्ञात आतंकियों ने एक कश्मीरी पंडित पूरन भट को गोलीबारी में घायल कर दिया था, बाद में अस्पताल पहुंचने के बाद इलाज के दौरान उक्त घायल कश्मीरी पंडित ने अपने प्राण त्याग दिए।

Also Read-Indore : महापौर पुष्यमित्र भार्गव पहुँचे पालदा इंडस्ट्रियल एरिया, औद्योगिक संगठन के साथ किया निरीक्षण, ये नेता रहे साथ

किसी संगठन ने नहीं ली जिम्मेदारी

सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार अबतक किसी भी आतंकी संगठन ने कश्मीरी पंडित पूरन भट की हत्या की जिम्मेदारी नहीं ली है। इसलिए इस घटना से जुड़े आतंकी संगठन की पुख्ता जानकारी ना तो जम्मू कश्मीर की स्थानीय पुलिस को पता चल पाई है और ना ही भारतीय सेना और उनके सुरक्षा बलों को। परन्तु सेना और स्थानीय पुलिस के द्वारा जल्द ही इस हत्याकांड के लिए जिम्मेदार आरोपी और आतंकी संगठन का पता लगाकर जवाबी कार्यवाही की जाएगी।

Also Read-देखें रॉयल एनफील्ड Continental GT 650 का न्यू वर्ज़न, टेस्टिंग के दौरान किया गया स्पॉट, जानिए क्या है कीमत

थम नहीं रही आतंकी घटनाएं

कश्मीर घाटी में आतंक और दहशत की वारदातें थमने का नाम ही नहीं ले रही हैं। इस साल की शुरुवात से लेकर अबतक कई बार आतंकी अपने नापाक इरादों से दहशत की घटनाओं को अंजाम दे चुके हैं। 12 मई को बड़गाम जिले में आतंकियों ने राजस्व विभाग के एक अधिकारी कश्मीरी पंडित राहुल भट्ट को गोली मारी थी जिनकी इलाज के दौरान मौत हो गई थी। 31 मई को कुलगाम के गोपालपोरा में आतंकियों ने महिला टीचर रजनीबाला की गोली मारकर हत्या कर दी थी। 2 जून को आतंकियों ने राजस्थान के हनुमानगढ़ के रहने वाले कुलगाम के मोहनपोरा में एक बैंक मैनेजर विजय कुमार पर फायरिंग की जिससे उनकी मृत्यु हो गई थी। प्रश्न उठता है कि आखिर कब तक कश्मीर घाटी में आतंक और दहशत का साम्राज्य कायम रहेगा और कब सौहार्द और शांति की बहाली सम्भव हो पाएगी।