वीरान पड़े जेटली-सुषमा के बंगले , बीमार हो जाता हे यंहा रहने वाला

0
65

नई दिल्ली। पूर्व मंत्री अरुण जेटली और सुषमा स्वराज के बंगले आलीशान हैं, लेकिन मौजूदा मंत्रियों में से कोई वहां जाने को तैयार नहीं। वास्तुदोष को लेकर तो बातें हैं ही, नकारात्मक माहौल की दलील भी दी जा रही है। जेटली का बंगला कृष्ण मेनन मार्ग पर है। उन्होंने उसे खाली कर दिया है, लेकिन अब तक किसी नए मंत्री ने वहां आशियाना नहीं बनाया है। इस बंगले में कांग्रेस नेता और पूर्व दूरसंचार मंत्री सुखराम ही रहे थे। वो टेलिकॉम घोटाले में फंस गए। अरुण जेटली की तबीयत बिगड़ गई। सपा के मुखिया मुलायम सिंह यादव भी कभी यहीं रहते थे। उन्हें भी बीमारियों ने जकड़ लिया। तभी से ये अफवाह है कि जो भी इस बंगले में रहता है, या तो बीमार हो जाता है या किसी झमेले में फंस जाता है। मुलायम सिंह यादव ने तो इसमें पूजा-पाठ और जोड़तोड़ भी करवाए थे, लेकिन कुछ नहीं बदला। आंध्रप्रदेश से सांसद किशोरचंद्र देव ने भी यहां होने वाली परेशानियों का जिक्र किया था। उनके बारे में कहा जाता है कि वो किसी भी सरकारी बंगले में जाने से पहले वहां का वास्तु और दूसरी चीजों की जांच-पड़ताल करवाते हैं, लेकिन इस वाले बंगले में उनके साथ भी गड़बड़ हुई थी। उनके पिता को पुरानी चोट थी, जो बाद में गंभीर हो गई। पिता की मौत के बाद उन्होंने भी बंगले को ही दोषी ठहराया। सुषमा स्वराज के बंगले की कहानी भी ऐसी ही है। सी-7, सिविल लाइन वाले इस बंगले में कोई जाना नहीं चाहता। मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की नजर इस बंगले पर थी, लेकिन जब उन्होंने वास्तु विशेषज्ञ को बुलवा कर जांच करवाई तो वो भी यहां जाने से पीछे हट गए। फिर ये बंगला तरुण भनोट को दिया गया। उन्होंने भी अफवाहों के कारण रहने से इंकार कर दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here