जगनमोहन रेड्डी ने पीएम मोदी से की मुलाकात, शपथ ग्रहण में किया आमंत्रित | Jagan Mohan Reddy meets PM Narendra Modi, Invited for his Oath Ceremony…

0
51

लोकसभा चुनाव के बाद वाईएसआर कांग्रेस के प्रमुख जगन मोहन रेड्डी ने रविवार को दिल्ली पहुंचकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात कर जीत की बधाई दी है। साथ ही पीएम ने भी रेड्डी को आन्ध्रप्रदेश में हुए विधानसभा चुनाव में मिली जीत की बधाई दी है। इस दौरान रेड्डी के साथ वी विजयासाई रेड्डी और पार्टी के अन्य नेता भी मौजूद थे।

शपथग्रहन में आने का दिया न्योता –
खबरों की माने तो बैठक में पीएम मोदी के बीच आन्ध्रप्रदेश को विशेष दर्जा, वहां की आर्थिक स्थिति और केंद्र से फंड को लेकर चर्चा हुई है। बता दे कि 30 मई को रेड्डी का राज्य के मुख्यमंत्री पद की शपथ भी होना है जिसके लिए उन्होंने प्रधानमंत्री को आमंत्रित भी किया है।

रेड्डी ने इस दौरान कहा कि ‘अगर भाजपा महज 250 सीट के साथ जीतती तो हम आंध्र प्रदेश के लिए विशेष राज्य के दर्जे पर हस्ताक्षर करवाकर उसे समर्थन देते, लेकिन अब स्थिति अलग है। उन्हें हमारी सहायता की जरूरत नहीं है। जो हम कर सकते थे हमने वही किया और अपनी स्थिति बता दी।’

केन्द्र से समर्थन की मांग की –
बताया जा रहा है कि रेड्डी ने पीएम मोदी राज्य को विशेष राज्य का दर्जा मिलने की जरूरत को बताते हुए कहा केंद्र के समर्थन के बिना आंध्रप्रदेश आगे नहीं बढ़ सकता है। साथ ही उन्होने राज्य में वर्तमान में चल रहे और आगे आने वाले निर्माण कार्यों में आर्थिक सहायता के लिए समर्थन की मांग की है।

मीडिया रिर्पोट्स के अनुसार पीएम ने रेड्डी के इन मुद्दों पर सकारात्मक प्रतिक्रिया देते हुए इन पर गौर करने की भी बात कही है। पीएम ने रेड्डी को आश्वासन भी दिया है कि विकास को लेकर केंद्र हमेशा राज्यों के साथ है। बताया जा रहा है पीएम से मुलाकात के बाद रेड्डी बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह से भी मिल कर सकते हैं।

आन्ध्र में दर्ज की शानदार जीत –
बता दे कि रेड्डी की पार्टी ने आंध्रप्रदेश में हुए विधानसभा चुनाव में शानदार प्रदर्शन करते हुए में 175 में से 151 सीटों पर कब्जा जमाया है। वहीं उनकी विपक्षी पार्टी तेलुगु देशम पार्टी (टीडीपी) महज 23 सीट ही मिल पाई हैं।

इसके अलावा लोकसभा चुनाव में वाईएसआर को 25 में से 22 पर जीत हासिल हुई है। वहीं टीडीपी को मात्र तीन सीटों पर हअी सिमट कर रह गई है। रेड्डी का कहना है कि 50 फीसदी वोट मिलना भी कोई सामान्य उपलब्धि नहीं है।

अन्य पार्टियां भी उठाती रही है विषेष राज्य के दर्जे की मांग –
गौरतलब है कि आन्ध्रप्रदेश की जनता सहित राजनीतिक पार्टियां भी प्रदेश को विषेष राज्य के दर्जा देने की मांग करती रही है। 2014 में बीजेपी की सहयोगी पार्टी रही टीडीपी ने भी आन्ध्र को विषेष राजय का दर्जा देने की शर्त पर ही भजपा को समर्थन दिया था। इन पार्टियों का कहना है कि अगर प्रदेष को विशेष उपयोग विकास परियोजनाओं में भी किया जा सकेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here