Breaking News

6 सितंबर को ISRO रच सकता है यह इतिहास | ‘ISRO’ can create History on 6th September

Posted on: 04 May 2019 17:41 by bharat prajapat
6 सितंबर को ISRO रच सकता है यह इतिहास | ‘ISRO’ can create History on 6th September

भारत अंतक्षि विज्ञान के क्षेत्र में एक और कीर्तिमान स्थापित कर इतिहास रचने की तैयारी कर रहा है। दरअसल भारत चंद्र मिशन चंद्रयान-2 के प्रक्षेपण की तैयारी कर रहा है। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने बताया कि वह चन्द्रयान को चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव में प्रक्षेपण करने की कोशिश करेगा। बता दे कि चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर अब तक किसी ने अंतरिक्ष यान उतारने की कोशिश नहीं की है।

इसरो के अध्यक्ष के. सिवन ने बताया कि ‘‘आज की तारीख तक किसी ने भी क्षेत्र में यान उतारने की कोशिश नहीं की। यह (चंद्रमा की) विषुवत रेखा के पास है। हम पहली बार चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव में यान (चंद्रयान-2) उतारने की कोशिश करेंगे।’’

गौरतलब है कि इस सप्ताह की शुरुआत में इसरो ने बताया था कि चंद्र मिशन के सभी तीन मॉड्यूल – ऑर्बिटर, लैंडर (विक्रम) और रोवर (प्रज्ञान) – जुलाई में निर्धारित प्रक्षेपण के लिए तैयार किए जा रहे हैं और चंद्रमा की सतह पर लैंडर सितंबर की में उतर सकता है।

सिवन ने पत्रकारों को बताया कि जीएसएलवी मैक-3 रॉकेट के जरिए अंजाम दिए जाने वाले इस मिशन के लिए इसरो ने 9 जुलाई से 16 जुलाई तक का समय तय किया है साथ ही सिवन ने यान को चंद्रमा पर 6 सितंबर को उतारे जाने की संभावना जताई है।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com