आतंकियों की खौफनाक साजिश, मुंबई के पानी में जहर मिलाकार नरसंहार का था प्लान

संदिग्धों के मुताबिक़ वो ना सिर्फ महाप्रसाद में ही जहर नहीं मिलाना चाहते थे, बल्कि उनका प्‍लान मुंबई शहर की उन झीलों में भी जहर मिलाने का था, जिनसे मुंबई के घरों को पीने के पानी की सप्‍लाई होती है।

0
445
ISIS

मुंबई: आईएसआईएस से तार जुड़े होने की शंका में एंटी टेररिस्ट स्क्वाॅड (एटीएस) ने महाराष्ट्र से 10 आतंकियों को गिरफ्तार किया था। इन संदिग्धों से हो रही पूछताछ में लगातार चौकाने वाले खुलासे हो रहे है। हाल ही में इन संदिग्धों ने ऐसा खुलासा जिसे सुनकर आप कांप उठेंगे। संदिग्धों के मुताबिक़ वो ना सिर्फ महाप्रसाद में ही जहर नहीं मिलाना चाहते थे, बल्कि उनका प्‍लान मुंबई शहर की उन झीलों में भी जहर मिलाने का था, जिनसे मुंबई के घरों को पीने के पानी की सप्‍लाई होती है।

एटीएस द्वारा दर्ज की गई चार्जशीट के मुताबिक, आईएसआईएस समर्थक तल्हा पोट्रिक नाम के आरोपी ने नरसंहार को अंजाम देने के लिए मुंबई के मुंब्रेश्वर मंदिर के महाप्रसाद में जहर मिलाने की साजिश रची थी। आतंकियों ने महाप्रसाद में जहर मिलाने की जिम्मेदारी अबू को दे रखी थी।

यदि आतंकी महाप्रसाद में जहर मिला देता तो लाशों के ढेर लग जाते। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक अबू किताल आईएसआईएस के इशारों पर जहर बना रहा था, जिसे मंदिर के महाप्रसाद में मिलाया जाना था। आतंकी अबू किताल मुंबई की महानगरपालिका में कर्मचारी रह चुका है और वह फाॅर्मिस्ट भी था। अबू में खास प्रकार के फाॅर्मूले से जहर तैयार किया था, जिसे मंदिर के प्रसाद में मिलाना था। उसने जहर तैयार कर एक बोतल में बंद कर दिया था। बताया जा रहा है कि अबु किताल को केमिकल साइंस और विस्फोटक की भी काफी जानकारी थी।

इनके प्लान में महाप्रसाद के अलावा मुंबई में पानी सप्लाई करने वाली झीलों में भी केमिकल घोलने की साजिश शामिल थी ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों को नुक्सान हो सके। इसके लिए इन आरोपियों ने कुछ झीलों की रेकी भी की थी। उन्होंने सेफ्टी के तौर पर सारा जहर का सामान एक जगह नहीं रखा था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here