Breaking News

क्या ऐसा कहना ठीक है?

Posted on: 11 Jan 2019 17:31 by Surbhi Bhawsar
क्या ऐसा कहना ठीक है?

सुरभि भावसार
([email protected])

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी इन दिनों बहुत कुछ कह रहे है। कहा जाता है कि ज्यादा बोलने में कई बार गलत बात भी निकल जाती है। हाल ही में राहुल गांधी ने कुछ ऐसा कह दिया जिसके कारण उन पर कई तरह के सवाल उठने लगे है। इतना ही नहीं इसके लिए उन्हें राष्ट्रीय महिला आयोग ने नोटिस भी भेजा है। एक रैली को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने कहा था कि ‘चौकीदार चोर है, चौकीदार लोकसभा के अंदर एक पैर नहीं रख पाया। जनता की अदालत से 56 इंच की छाती वाला चौकीदार भाग गया और एक महिला से कहता है सीतारमण जी आप मेरी रक्षा कीजिए, मैं अपनी रक्षा नहीं कर पाऊंगा। आप मेरी रक्षा कीजिए।’ राहुल गांधी के इस बयान को रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण का अपमान माना जा रहा है। कहा जा रहा है कि क्या राहुल गांधी ये सोचते है कि महिला कमजोर है? कुछ लोगों का कहना है कि राजनीति में किसी पार्टी का विरोध करना ठीक है लेकिन किसी महिला का अपमान करना क्या सही है? राहुल जी आप देश की सबसे पुरानी पार्टी के अध्यक्ष है। आपका ऐसा कहना शोभा नहीं देता।

जब टीवी पर एक बहस देखी तो दोनों पार्टी के प्रवक्ता इसको लेकर एक-दूसरे पर आरोप लगा रहे है। भाजपा वाले कहते है राहुल गांधी ने देश की रक्षामंत्री का अपमान किया है तो कांग्रेस वाले बचाव करने लगते है या किसी नेता के पुराने बयान का जिक्र कर कहते है कि आपके नेता ने भी ऐसा कहा था। ऐसा देखकर लगता है कि राजनीति में बोलने की कोई सीमा ही नहीं बची है।

हाल ही में विधानसभा चुनाव में देखने को मिला कि नेता एक-दूसरे पर आरोप लगाते है। कई बार तो कुछ ऐसा कह जाते है जिसका नुकसान पार्टी को उठाना पड़ जाता है। भाषा का स्तर इतना नीचे गिर गया कि कभी किसी नेता के खानदान पर पहुंच जाते है तो कभी उनकी मां तक पर भी टिप्पणी कर बैठते है। जब किसी नेता को ऐसा बोलते हुए सुनते है तो शर्म आती है कि वोट के लिए किसी की मां तक पर बयान दे दिया जाता है, किसी को चोर, किसी को बिच्छू तो किसी की तुलना नाली के कीड़े से कर दी जाती है। बात भाजपा या कांग्रेस की नहीं है, किसी भी राजनेता के लिए ऐसी भाषा का उपयोग सही नहीं लगता।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com