Breaking News

आईओटी से पता चलेगा लूटेल टाॅयलेट साफ हुआ है या नहीं

Posted on: 26 Apr 2019 13:27 by Pawan Yadav
आईओटी से पता चलेगा लूटेल टाॅयलेट साफ हुआ है या नहीं

हाइजीनिक सेनिटेशन और कैफे काॅम्बिनेशन वाले शहर के स्टार्टअप लूटेल कैफे को बेस्ट सेनिटेशन माॅडल का अवाॅर्ड दिया गया हैै। इंडिया सेनिटेशन कोएलिशन और फिक्की सेनिटेशन अवाॅर्ड-2019 में स्टार्टअप ने बेस्ट एंगेजमेंट माॅडल इन सेनिटेशन बाय सोशल इंटरप्राइज कैटेगरी में ये अवाॅर्ड जीता है। हाइजीन को एक कदम और आगे ले जाते हुए अब इसे आईओटी बेस्ड बनाया जा रहा है। टाॅयलेट साफ हुआ या नहीं, कब हुआ जैसी जानकारी आॅफिस में बैठे-बैठे ही पता लगाई जा सकेगी। अवाॅर्ड के लिए लूटेल कैफे का सिलेक्शन चार राउंड्स के बाद किया गया। पहले राउंड के लिए अप्लाय करने के बाद उन्हें एलिमेंटरी राउंड में सिलेक्ट किया गया। इसके बाद ज्यूरी मेंबर्स ने स्टार्टअप की कंसेप्ट और फंक्शनिंग को बारिकी से समझा। ज्यूरी में में 12 मेंबर्स थे। अवाॅर्ड के लिए प्राइवेट, सोशल और काॅर्पोरेट सेक्टर के स्टार्टअप अलग-अलग कैटेगरी शामिल हुए।

indore

यशवंत सुथेरा ने बताया लूटेल कैफे को सेनिटेशन में सस्टेबल माॅडल होने की वजह से अवाॅर्ड के लिए चुना गया। आमतौर पर टाॅयलेट्स सस्टेनेबल नहीं होते। उनमें इन्वेस्ट करने रहना होता है। इसके विपरीत लूटेल कैफे में एक बार इन्वेस्ट करने के बाद ये माॅडल खुद ही रेवेन्यू जनरेट करता है। सेल्फ सस्टेनेबल माॅडल है जो खुद का ध्यान रख लेता है। लूटेल कैफे में मिलने वाले वाॅशरूम को अब इंटरनेट आॅफ थिंग्स से कनेक्ट किया जा रहा है। स्टार्टअप के फाउंडर के मुताबिक डिजिटाइज होने के बाद माॅडल की आॅपरेशनल क्वालिटी को रिमोटली एक्सेस किया जा सकेगा। फिक्सड टाइम में कितने यूजर्स आए। टोटल वाॅटर कन्जम्शन कितना हुआ। क्लिनिंग कब हुई। कितना समय लगा। एयर क्वालिटी टेम्परेचर सहित दूसरी जानकारियां भी आॅफिस भी आॅफिस में बैठकर ही एक्सेस की जा सकेंगी। ये एक तरह से टाॅयलेट का हेल्थ मैनेजमेंट सिस्टम होगा, जिसे कम्प्यूटर पर एक्सेस किया जा सकेगा। इससे सुविधाओं में होेने वाली कमी को दूर करने के साथ ही आॅपरेशन में एडवांसमेंट भी ला सकेंगे। हायजिनिक सेनिटेशन वाले इस स्टार्टअप को पहले भी कई अवाॅड्र्स मिल चुके हैं।
Read More : सबसे अमीर प्रत्याशी है मुख्य्मंत्री कमलनाथ के बेटे नकुलनाथ,संपत्ति 660 करोड़

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com