Breaking News

आज हीरो के इशारे पर नाचना मजबूरी हो गई फिल्मी दुनिया की: जेपी चौकसे

Posted on: 11 Feb 2019 10:56 by Ravindra Singh Rana
आज हीरो के इशारे पर नाचना मजबूरी हो गई फिल्मी दुनिया की: जेपी चौकसे

इंदौर: इस समय फिल्मी दुनिया बेहद परिवर्तन के दौर से गुजर रही है, सब कुछ हीरो पर निर्भर हो गया है हीरो को मेहनताना के साथ ही फिल्मों का एक बड़ा हिस्सा भी देना होता है जो सिर्फ प्रॉफिट का होता है, फिल्म में घाटा होने पर उनकी कोई जिम्मेदारी नहीं होती वे सब कुछ अपने हिसाब से ही कई कराते हैं।

इंदौर रायटर्स क्लब की बैठक में प्रसिद्ध फिल्म समीक्षक-लेखक जयप्रकाश चौकसे ने रायटर्स क्लब में आए और उन्होंने फिल्मों से जुड़ी कई बातें शेयर की।उन्होंने यह भी कहा कि नेटफ्लिक्स और अन्य जो माध्यम सामने आ रहे हैं और जिनके कारण बोल्ड फिल्मों का प्रसारण हो रहा है वह एक अच्छी शुरुआत है।

उन्होंने तीसरी कसम फिल्म से जुड़ी हुई कई बातें भी साझा की उन्होंने बताया कि तीसरी कसम के डूबने का एक कारण कवि शैलेंद्र का साला भी है जिसने नियत खराब करके इस फिल्म को डुबाने में कोई कसर नहीं छोड़ी।

अपने कालम को लेकर यह कहा कि वह पिछले 24 सालों से नियमित रूप से इसे दैनिक भास्कर में लिख रहे हैं और इस अर्थ में पूरे देश में यह पहला ऐसा कॉलम है जो पिछले 24 वर्षों से नियमित लिखा जा रहा है हालांकि विदेशों में नियमित कालम लिखने के इस से बड़े रिकॉर्ड भी हैं लेकिन भारत में संभवत यह पहला ही रिकॉर्ड है वे चाहें बिस्तर पर रहे या बीमार रहे या यात्रा पर रहे उन्हें इस कॉलम को प्रतिदिन देना ही होता है।
प्रस्तुति : अर्जुन राठौर

मध्य में जेपी चौकसे साथ है कवि सरोज कुमार, शायर तारिक शाहीन

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com