इंदौर : संभागायुक्त ने तय की सुगम यातायात के विकल्पों के लिए नगर निगम और आईडीए की भूमिका | Indore Municipal Corporation and IDA for the Smooth Traffic Options decided by the Feisty…

0
63

इंदौर विकास योजना-2021 में प्रस्तावित मुख्य मार्गों के विकास की कार्य योजना तैयार किये जाने के लिये संभागायुक्त आकाश त्रिपाठी की अध्यक्षता में बैठक सम्पन्न हुयी । बैठक में कलेक्टर लोकेश कुमार जाटव, आयुक्त नगर निगम आशीष सिंह, इंदौर विकास प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालन अधिकारी मौजद थे।

बैठक में संभागायुक्त आकाश त्रिपाठी ने स्पष्ट किया कि इंदौर विकास योजना 2021 के प्रस्तावों के क्रियान्वयन का संयुक्त दायित्व इंदौर विकास प्राधिकरण के साथ-साथ नगर पालिक निगम इंदौर का भी होगा। विकास योजना के प्रावधान अनुसार प्रस्तावित मुख्य मार्गों में एमआर-3, 04, 05, 09, 11, 12 और आर.ई.2 के विकास एवं यातायात के सुचारू संचालन हेतु आवश्यकता प्रतीत की गयी है। उक्त मार्ग इंदौर सीमा की चारो दिशाओं में प्रस्तावित होने के कारण इनका पूर्ण विकास हो जाना नगर निगम क्षेत्र में विभिन्न स्थानों के मुख्य शहर से कनेक्टविटी में वृद्धि करेगा। श्री त्रिपाठी ने कहा कि इन मार्गों पर यातायात के अधिक होने के कारण उत्पन्न समस्या का समाधान होगा साथ ही नगर निगम सीमा में वर्ष 2014 में शामिल किये गये नवीन ग्रामों क लिये कनेक्टिविटी प्रदाय हो सकेगी।

बैठक में बताया गया कि इंदौर विकास प्राधिकरण द्वारा एमआर 12 के लिये योजना क्रमांक 177 घोषित की जाकर योजना को अंतिम रूप दिया जा चुका है। इस मार्ग के निर्माण से बायपास से आने वाले वाहनों को उज्जैन रोड तक जाने हेतु सुविधा उपलब्ध हो सकेगी। इस संबंध में निर्णय लिया गया है कि प्रस्तावित मार्ग के प्रथम चरण में बायपास से लेकर योजना क्रमांक 174 (ट्रांसपोर्ट हब) तक निर्माण की कार्यवाही प्रारंभ की जाये। द्वितीय चरण में शेष मार्ग का निर्माण योजना में समाविष्ठ भूमि स्वामियों से शीघ्र चर्चा कर प्रारंभ का कार्य इंदौर विकास प्राधिकारण द्वारा किया जाएगा।

बैठक में विद्मान रेल्वे स्टेशन से एम.आर.10 पर प्रस्तावित बस स्टेण्ड (आईएसबीटी) तक एम.आर.4 से पश्चिमी रिंग रोड क्रमांक एक के रूप में पूर्ण किया जाना होगा। उक्त मार्ग निर्माण से रेल्वे स्टेशन एवं सरवटे बस स्टेण्ड के यातायात को उज्जैन रोड से सीधे जुड जायेगा। इसी क्रम में प्राधिकरण द्वारा एम.आर.4 का निर्माण लगभग पूर्ण हो चुका है एवं आगे की ओर इसी मार्ग को रेल्वे लाईन के समानांतर बस स्टेण्ड तक पूर्ण किये जाने की कार्यवाही इंदौर विकास प्राधिकरण को करने का निर्णय लिया गया है।

बैठक में शहर के मध्य क्षेत्र में सुपर कोरिडोर होते हुय बड़ा बांगड़दा तक विकास योजना में प्रस्तावित 45 मीटर चौड़ाई में विद्यमान 5 मार्ग का विकास किये जाने को निर्णय लिया गया। उक्त मार्ग हेतु नगर पालिक निगम अधिनियम की धारा 291 (1) प्रावधानों के आधार पर नगर विकास योजना निगर पालिक निगम द्वारा घोषित की जायेगी एवं उक्त मार्ग निर्माण हेतु आवश्यक भूमियों का अधिग्रहण टीडीआर नीति के आधार पर किया जायेगा साथ ही मार्ग निर्माण वित्तीय प्रबंधन अधिनियम की धारा 136 के अनुसार बेटरमेंट टेक्स लिया जाकर नगर पालिक निगम द्वारा किया जायेगा।

बैठक में बताया गया कि शहरी के दक्षिणी भाग में एबी रोड पर विद्यमान पिपल्यापाला रिजनल पार्क से बायपास तक प्रस्तावित 45 मीटर चौड़ाई में एम.आर. 3 का निर्माण नगर पालिक निगम द्वारा किया जाएगा। उक्त मार्ग निर्माण होने से भवर कुंआ से लेकर राऊ के मध्य एक लिंक रोड के रूप में विकसीत किया जायेगा। उक्त मार्ग हेतु नगर पालिक निगम अधिनियम की धारा 291 (2) के प्रावधानों के आधार पर नगर विकास योजना नगर पालिक निगम द्वारा घोषित की जायेगी एवं उक्त मार्ग निर्माण के लिये आवश्यक भूमियों का अधिग्रहण टीडीआर नीति के आधार पर किया जायेगा साथ ही मार्ग निर्माण वित्तीय प्रबंध अधिनियम की धारा 136 के अनुसार बेटरमेंट टेक्स लेकर इंदौर नगर पालिक निगम द्वारा किया जायेगा।

शहर के पूर्वी क्षेत्र में रिंग रोड से बायपास तक प्रस्तावित 40 मीटर चौड़ाई में एम.आर.9 का विकास, शहर के यातायात के लिये आवश्यक है क्योंकि वर्तमान में शहरी के पश्चिम क्षेत्र में स्थित इलेक्ट्रानिक काम्प्लेक्स से रिंग रोड तक एम.आर.9 का निर्माण लगभग 90 प्रतिशत लंबाई में पूर्ण हो चुका है। उल्लेखनीय है कि न्यू देवास रोड भमोरी से प्राधिकरण की योजना क्रमांक 54 मेकेनिक नगर के समीप लगभग 450 मीटर लंबाई में संजय गांधी नगर में अवैध निर्माण, हाऊसिंग बोर्ड की कालोनी का कुछ भाग तथा निजी भूमि प्रस्तावित हो रही है इस हेतु भी आवश्यक कार्यवाही करने का निर्णय लिया गया। रिंग रोड से पूर्वी भाग में लगभग 700 मीटर लंबाई में जेएनएनयूआरएम योजना के तहत पूर्व में प्राधिकरण द्वारा मार्ग विकसित किया जा चुका है। इसी की निरंतरता में खजराना दरगाह होते हुये शेष 3.40 किलोमीटर मार्ग निर्माण की कार्यवाही नगर पालिक निगम अधिनियम 1956 एवं टीडीआर नियमों के तहत इंदौर नगर निगम द्वारा किये जाने का निर्णय लिया गया। निर्माण कार्यों के दौरान हटाए जाने वाले परिवारों के व्यवस्थापन की कार्यवाही नगर पालिक निगम एवं इंदौर विकास प्राधिकरण के द्वारा की जायेगी।

शहर के उत्तरी क्षेत्र में ग्राम लसूडिया एवं ग्राम पिपलिया कुमार की काकड पर अधिकांश भाग में 40-50 मीटर चौड़ाई की शासकीय भूमि उपलब्ध होने से अतिरिक्त भूमि अधिग्रहण की आश्यकता कम होगी साथ ही नगर निगम के वित्तीय संसाधनों को देखते हुये इस मार्ग के निर्माण हेतु योजना घोषित करने, बेटरमेंट टेक्स की कार्यवाही एवं भूमि अधिग्रहण की कार्यवाही इंदौर नगर निगम द्वारा नगर पालिक निगम अधिनियम, टीडीआर नियमों के अंतर्गत पूर्ण की जायेगी।

उक्त कार्यवाही की प्रक्रिया के दौरान ही इंदौर विकास प्राधिकरण द्वारा मार्ग निर्माण की कार्यवाही करने का निर्णय लिया गया है। निर्माण पूर्ण होने पर इंदौर नगर निगम द्वारा बेटरमेंट टेक्स की राशी जो भूमि स्वामियों से ली जायेगी उक्त राशी इंदौर नगर निगम द्वारा इंदौर विकास प्राधिकरण को हस्तांतरित की जायेगी ताकि इंदौर विकास प्राधिकरण द्वारा निर्माण कार्य में व्यय की जाने वाली राशि की भरपाई हो सके। यह कार्य इंदौर विकास प्राधिकरण एवं नगर पालिक निगम इंदौर द्वारा किया जायेगा।

बायपास एवं रिंग रोड के मध्य एम.आर.10 से लेकर खण्डवा रोड, नेमावर रोड, ए.बी.रोड तक विकास योजना में पूर्वी रिंग रोड क्रांक 2, 45 मीटर चौड़ाई में प्रस्तावित है जिससे बायपास पर यातायात दबाव कम होगा। वर्तमान यातायात की आवश्यकताओं को दृष्टिगत रखे हुये प्रथम चरण में भूरी टेकरी (एमआर 8) से नेमावर रोड होते हुये नवीन आरटीओ एवं ग्राम मुंडला नायता में प्रस्तावित आयएसबीटी तक सुगम मार्ग उपलब्ध होगा। इस हेतु प्रस्तावित आरई-2 के निर्माण एवं योजना घोषित करने की कार्रवाई इंदौर नगर निगम द्वारा नगर पालिक निगम अधिनियम 1956 एवं टीडीआर नियमों के तहत किये जाने का निर्णय लिया गया है। यह कार्य नगर पालिक निगम द्वारा किया जायगा।

इन सभी विकास योजना प्रमुख मार्गों के सीमांकन की कार्यवाही नगर तथा ग्राम निवेश कार्यालय एवं रेवेन्यु विकास के सहयोग से आगामी एक माह में पूर्ण करने का निर्णय लिया गया ताकि मार्ग से प्रस्तावित भूमियों की जानकारी सही रूप से प्राप्त हो सके एवं भविष्य में मार्ग पंक्तिकरण को लेकर कोई विवाद न हो।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here