Breaking News

आज महिला पुरुष की अनुगामी नहीं सह गामिनी है: Lata Agrawal  

Posted on: 04 Mar 2019 12:48 by Rakesh Saini
आज महिला पुरुष की अनुगामी नहीं सह गामिनी है: Lata Agrawal  

प्रसिद्ध लेखिका लता अग्रवाल ने कहा

अखिल भारतीय महिला साहित्य समागम जिसका आयोजन वामा साहित्य मंच तथा घमासान डॉट कॉम द्वारा किया जा रहा है। उसमें दूसरे सत्र में अपने विचार रखते हुए प्रसिद्ध लेखिका लता अग्रवाल ने कहा कि आज लघु कथाओं के माध्यम से आज की नारियों का संघर्ष सामने आ रहा है। उन्होंने ज्योति जैन के साथ ही अनेक महिला लेखिकाओं की कहानियों का उल्लेख करते हुए कहा कि उनकी लघु कथाएं समाज में एक नई क्रांति ला रही है।

मिथिलेश दीक्षित की कथा भी बेहद मार्मिक है आज बेटियां परिवार में हो रहे अंदरूनी मामलों को बहुत अच्छे से व्यक्त कर रही है। बहु बच्चों के साथ ऐसा व्यवहार मत करा कर कल से ऐसा ना हो कि ऐसा ही व्यवहार तेरे साथ हो इस तरह से लघु कथाओं में समाज का सच्चा चित्रन सामने आ रहा है।

आज की शिक्षित स्तरीय ने अपनी सूझबूझ से अपनी और समाज की सोच को पूरी तरह से बदल दिया है। उनकी खुद की एक लघु कथा को बहुत पसंद किया गया और उसका कई भाषाओं में रूपांतरण हुआ है।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com