Breaking News

लघु कथा में बहुत कम बोल कर भी बहुत बड़ा कह दिया जाता है: Mithilesh Dikshit

Posted on: 04 Mar 2019 13:16 by Rakesh Saini
लघु कथा में बहुत कम बोल कर भी बहुत बड़ा कह दिया जाता है: Mithilesh Dikshit

पूरे देश की प्रसिद्ध लघु कथा कार डॉ मिथिलेश दीक्षित ने कहा अखिल भारतीय महिला साहित्य समागम जोकि वामा साहित्य मंच तथा घमासान डॉट कॉम द्वारा आयोजित किया जा रहा है। उसमें अपने विचार रखते हुए निखिलेश दीक्षित ने कहा कि महिला लेखन के विभिन्न तेवर हमारे सामने आए हैं। महिलाओं द्वारा आज जो लेखन किया जा रहा है उसने पाठकों की अभिरुचि को भी पूरी तरह से बदल दिया है।

उर्मि कृष्ण की एक लघु कथा कालजई है एक लघु कथा में यह कहा जाता है की बलात्कार उसके शरीर के साथ हुआ है। आत्मा के साथ नहीं उसकी आत्मा अभी भी जिंदा है।

महिमा श्रीवास्तव की लघुकथा में पुत्र पुत्री उसकी संपत्ति को बेचना चाहते हैं। इसी बीच में यह निर्णय ले लेते हैं कि यहां पर एक वृद्ध आश्रम खोल दिया जाए। यह एक सजगता का बहुत बड़ा उदाहरण है।

आज के समाज में छेड़छाड़ की घटनाएं बहुत तेजी से बढ़ रही है। ऐसे में महिलाएं और आज की युवा लड़कियां बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हुए अपना प्रतिरोध दर्ज करा रहे हैं।

Read More:- आज का आयोजन कालजयी समागम हो गया है

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com