इंदौर: बारिश से बेहाल शहर का हाल जानने निकले महापौर पुष्यमित्र भार्गव, अधिकारियों को दिए ये निर्देश

इंदौर में हुई झमाझम बारिश ने जनजीवन को पूरी तरीके से अस्त-व्यस्त कर दिया है.

Indore: इंदौर में मंगलवार शाम से शुरू हुई बारिश थमने का नाम नहीं ले रही है. अलग-अलग इलाकों में कभी बूंदाबांदी तो कभी तेज बारिश का दौर देखा जा रहा है. शहर के पूर्वी और पश्चिमी इलाके में झमाझम बारिश हुई. रात 8 बजे के बाद शुरू हुई तेज बारिश से सड़कों पर पानी बहता दिखाई दिया. हालात यह हो गए कि वाहन चालकों को अपनी गाड़ियां निकालने में काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा और ट्रैफिक पूरी तरह से जाम हो गया.

बारिश का दौर थोड़ा थमने के बाद इंदौर के महापौर पुष्यमित्र भार्गव सड़कों पर उतरे और शहर के पश्चिमी क्षेत्र के जलभराव वाले इलाकों का दौरा किया. भार्गव जब इन क्षेत्रों का दौरा करने पहुंचे तो वहां पर लगाता सड़कों पर पानी बहता हुआ दिखाई दे रहा था. महापौर पुष्यमित्र भार्गव के साथ क्षेत्रीय पार्षद बबलू शर्मा और प्रशांत बड़वे भी मोर्चा संभालते दिखाई दिए. महापौर ने सभी जोन के अधिकारियों से चर्चा की और आवश्यक निर्देश दिए. उन्होंने वैशाली नगर, स्कीम नंबर 71, राजेंद्र नगर, द्वारकापुरी, विशाल नगर, नालंदा परिसर जैसे एक दर्जन से ज्यादा इलाकों का दौरा किया. रहवासियों ने पुष्यमित्र भार्गव को अपनी समस्याओं से अवगत भी कराया और बताया कि जलभराव की समस्या होने के चलते लोग गिर पड़ रहे हैं और उनकी हड्डियां तक टूट रही हैं.

Must Read- मूसलाधार बारिश से त्रस्त हुई इंदौर की जनता, पानी में बह गई दर्जनों गाड़ियां

नागरिकों की समस्याओं को सुनने के बाद और शहर में जलभराव की स्थिति की समीक्षा करते हुए पुष्यमित्र भार्गव ने मौके से जिम्मेदार अधिकारियों को फोन पर स्थिति को नियंत्रण में लाने के आदेश दिए. उन्होंने अधिकारियों को यह कहा कि तुरंत ही इस समस्या का निराकरण किया जाए और निराकरण ऐसा हो कि अगर पानी फिर आता है तो यह स्थिति वापस से ना बने.

बता दें कि शाम 8 बजे से बादलों की तेज गड़गड़ाहट के साथ मूसलाधार बारिश का दौर शुरू हुआ. इस बारिश ने शहर को पूरी तरह से जाम कर दिया. मौसम विभाग ने अगले 4 दिनों तक तेज बारिश होने की संभावना जताई है. पिछले 2 दिनों से कभी उमस कभी धूप तो कभी हल्की बारिश का दौर देखा जा रहा था. मंगलवार को भी दिन में मौसम ऐसा ही रहा लेकिन रात 8 बजे बाद बरसे बादलों ने पूरे शहर को तरबतर कर दिया. तेज बारिश के साथ बिजली भी कड़कती दिखाई दी. मूसलाधार बारिश ने रुकने का नाम नहीं लिया और लगातार एक ही स्पीड में पानी बरसता रहा.

 

इस साल की इस रिकॉर्ड तोड़ बारिश ने जनजीवन को पूरी तरीके से अस्त-व्यस्त कर दिया. पानी निकासी की व्यवस्था ठीक नहीं होने के कारण निचले इलाकों के साथ-साथ चौराहों पर भी जलजमाव देखा गया. वर्तमान प्रत्याशी के प्रजापत नगर में झमाझम हुई बारिश की वजह से 2 से ज्यादा कार और दर्जनभर लगभग गाड़ियां बह गई. पूरे शहर में बारिश से बुरा हाल देखा जा रहा है.

मौसम विभाग की मानें तो अगस्त में 272.7 मिमी यानी 11 इंच तक औसत बारिश होती है. लेकिन इस बार 9 दिनों में ही 10 इंच बारिश हो चुकी है. आने वाले 4 दिनों तक इसी तरह की बारिश होने की संभावना जताई गई है.