इंदौर: मेयर गौड़ ने आखरी बजट में कोई कर नही लगाया

0
43
budget

इंदौर। मेयर मालिनी गौड़ ने आज अपने कार्यकाल का आखिरी और पांचवां बजट जारी करते हुए कहा कि 5 हजार 647 करोड़ 18 लाख 10 हजार रुपए की आय नगर निगम को इस वित्तीय वर्ष में होगी। 5 हजार 574 करोड़ 40 लाख 68 हजार के खर्च होंगे। इसमें पांच फीसदी अतिरिक्त पैसा शामिल करने के बाद 96 करोड़ 79 लाख 56 हजार रुपए का घाटा होगा। मेयर ने चुनावी बजट पेश किया है। कोई टैक्स नहीं बढ़ाया, नया कर भी नहीं लगाया और जो स्मार्ट सिटी के पुराने काम चल रहे हैं, उनको आगे बढ़ाने की बात कही है। मेयर ने दावा किया कि शहर में चल रहे काम दिसंबर तक सब पूरे हो जाएंगे।

महापौर मालिनी गौड़ ने बताया कि इंदौर को स्वच्छता में तीन बार अवार्ड दिला कर हमने इंदौर का नाम पूरे देश ही नहीं पूरे विश्व में रोशन किया है। पंद्रह सौ से ज्यादा कचरा पेटी हटाई, एक हजार से अधिक खुले स्थानों पर कचरे के ढेर शहर में दिखाई देते थे। यूनाइटेड नेशन ने बैंकॉक में इंदौर को एशिया पेसिफिक देशों के शहरों के लिए इंदौर को रोल मॉडल घोषित किया है। उत्तर प्रदेश सहित कई राज्य सरकारों ने भी इंदौर को रोल मॉडल बताया है। कौर ने कहा कि अब हर रोज निकलने वाले कचरे को हमें कम करना है 2020 तक हमारा ही होगा कि हम कैसे कचरा कम से कम उत्पन्न हो इसी योजना पर काम करें, चार हजार से अधिक घरों पर सूखे कचरे को रखने के लिए बड़े बैग उपलब्ध कराए, एनजीओ के माध्यम से हम ढाई से तीन रुपए किलो कचरा खरीद रहे हैं।

हर घर को सत्तर से सौ रुपए महीना कचरा बेचने से मिलेगा। इंदौर शहर में क्लासिक पूर्णिमा ऐसी कॉलोनी है, जहां न गीला कचरा निकलता है न सूखा। ऐसी और कालोनियों में व्यवस्था की जा रही है, ताकि हम एक लाख परिवारों को इस साल के आखिरी तक जीरो वेस्ट श्रेणी में ला दें। इंदौर शहर से रोजाना निकलने वाला तीन सौ मैट्रिक टन कचरा कम करने का काम शुरू कर दिया है। सौ पानी की प्याऊ खुलवाए।

मेयर गौड़ ने बताया कि पूरे शहर में लोग प्लास्टिक में तय किए हुए पानी का उपयोग करना बंद करें, इसलिए हमने शहर में सौ स्थानों पर शुद्ध पीने का पानी उपलब्ध कराने के लिए शुरू किए हैं। नगर निगम को आरसी मजबूती देने के लिए हम नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के साथ ही अब लंदन स्टॉक एक्सचेंज में मान जारी करने वाली देश की पहली नगर निगम होगी। नर्मदा परियोजना के लिए सौ मेगावाट क्षमता का सोलर एनर्जी प्लांट लगाए जाने का तकनीकी परीक्षण हो चुका है। 500 करोड़ इस पर खर्च होंगे।

180 करोड़ रु. में बीस किलोमीटर सड़क

मास्टर प्लान के अनुसार मेजर रोड तीन, पांच, नौ, ग्यारह और आरई-2 जैसी महत्वपूर्ण सड़कें नगर निगम बनाएगा। बीस किलोमीटर लम्बी ये सड़कें बनाने के लिए पांच साल का लोन लेंगे। उस इलाके के लोगों के बीस से चालीस रुपए वर्गफुट बेटरमेंट चार्ज लेंगे। जो लोगों को पांच साल में देना पड़ेगा। नए सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट, नहर भंडारा, प्रतीक सेतु, प्राणी संग्रहालय, राधास्वामी मैदान, बिजलपुर तालाब और शेखर नगर में बना रहे हैं। कान्ह नदी के चार किलोमीटर के एरिये में डेवलपमेंट का काम चल रहा है।

मेयर ने बताया कि मेयर हेल्प लाइन 311-एप 2 अक्टूबर 2016 को शुरू की थी, जिस पर अभी तक 3 लाख 15 हजार 572 शिकायतें मिलीं, जिसमें 3 लाख 14 हजार 709 शिकायतें हल कर दीं। शहर की प्रमुख सड़कें 125 करोड़ रुपए खर्च करके बनाई गईं। शहर में चल रहे काम लगभग अस्सी फीसदी हो चुके हैं। अटल खेल संकुल, चिमनबाग मैदान, बाणेश्वरी कुंड के सामने खेल मैदान में सुविधाएं उपलब्ध कराईं। अस्सी से ज्यादा सरकारी स्कूलों में काम कराए गए। इकतीस पुल-पुलियाओं का काम पूरा कर दिया है। बीस पुल-पुलिया का काम चल रहा है।

मेयर गौड़ ने बताया कि महूनाका चौराहे पर फ्लाय ओवरब्रिज पचास करोड़ रुपए की लागत से बनाया जाएगा, ताकि चौराहे पर ट्रैफिक का दबाव कम किया जा सके। शहर में ग्यारह सौ इक्यावन बगीचे हैं, जिसमें से 692 बन चुके हैं और 459 बनाना हैं। इन बगीचों में पौधारोपण अभियान फिर से चलाया जाएगा। शहर में 92 किलोमीटर सेंट्रल डिवाइडर पर लगे पौधों का रखरखाव नियमित रूप से किया जा रहा है, शहर को पर्याप्त पानी मिल सके, इसलिए 360एमएलडी पानी की जगह, 540एमएलडी पानी लाया गया, अब नई टंकियां बनने पर शहर के लोगों को पर्याप्त पानी मिलेगा।

नई पाइप लाइन डालने पर अब इस साल इक्यावन करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे। चार साल में 3 हजार 526 अलग-अलग काम 260 करोड़ खर्च करके किए, लेफ्ट टर्न चौड़े करने की दिशा में गीता भवन चौराहा, पलासिया, नौलखा, रसोमा और निरंजनपुर चौराहे पर काम किया गया, 45 करोड़ रुपए खर्च करके चौराहे के ट्रैफिक को ठीक करने के लिए अलग-अलग काम किए।

मेयर गौड़ ने बताया कि सिटी बस में मेयर रियायत पास योजना के तहत चौदह हजार से अधिक लोगों ने इसका फायदा उठाया, नए बस स्टैंड बनाने का काम तीन इमली और सरवटे का चल रहा है, दस सिटी बसें बायोगैस ईंधन से चल रही हैं, मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के तहत 1094 कन्याओं का विवाह कराया, शहर में 32 हजार 500 एलईडी नई लगाई गई, सेंट्रल लाइटिंग और चौराहों पर हाईमास्ट लगाए गए, प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत अभी तक चौदह हजार फ्लैट बनाने का काम चल रहा है, शहर से जुड़े नए उनतीस गांवों में भी विकास पर ध्यान दिया जा रहा है।

मेयर ने बताया कि नगर निगम के पास पहले खुद के सौ वाहन थे, अब लगभग नौ सौ पचास वाहन हैं, जिनको जीपीएस से जोड़ा गया है। अब नगर निगम शहर में पांच जगह पेट्रोल पंप शुरू करेगा। नगर निगम की मल्कियत के पेट्रोल पंप होने से पंद्रह लाख रुपए महीने की बचत होगी, पूरे शहर में नगर निगम के जनसहयोग से खूबसूरत पेंटिंग कराई गई।

शहर के बड़े पुल-पुलियाओं के नीचे बोगदे में हरियाली की जा रही है, ताकि वहां पर कब्जा न हो सके। नगर निगम में जब मैंने काम संभाला, तब राजस्व आय 246 करोड़ रुपए थी, जो अब बढ़कर 363 करोड़ रुपए हो गई। मेयर ने अपने कार्यकाल का आखिरी बजट पेश करते हुए कहा कि मैंने जितना हो सका, उतना पूरा काम किया। मेरी कोशिश थी कि हर व्यक्ति का काम हो, सब लोग खुश रहें, शहर को स्वच्छता के साथ ही हर क्षेत्र में हम नंबर-वन बनाएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here