Breaking News

जैसा सुना था वैसा ही है इंदौर

Posted on: 06 May 2018 10:55 by Ravindra Singh Rana
जैसा सुना था वैसा ही है इंदौर

इंदौर, (हेमा लोवंशी): कलाकारों के लिए दर्शकों का प्यार ही बहुत है। जब हम स्टेज पर आते हैं और दर्शक तालियां बजाते हैं तो हमारी सारी मेहनत सफल हो जाती है। यह कहना है उड़ीसा के कौशल फोक एकेडमी की विनती रावत का। 2

ख़ास डांस है डाल खाई
हर प्रदेश की अपनी अलग संस्कृति और विरासत होती हैं वैसे ही उड़ीसा में भी डाल खाई नृत्य काफी प्रचलित है। यह डांस दुर्गा मां को प्रसन्न करने के लिए किया जाता है । सभी लोग सज- धज कर दुर्गा मां के आगे डाल खाई नृत्य करते हैं जिसमें मां से प्रार्थना करते हैं। पारिवारिक सुख शांति हो और अपने भाई के लिए खास तौर पर दुआ की जाती है।

मेकअप होता है ख़ास
डाल खाई डांस में ख़ास मेकअप होता है । इसमें बिंदी पर ज्यादा फोकस किया जाता है। जैसा मां का श्रृंगार किया जाता है वैसा ही श्रृंगार कलाकार भी करते हैं, क्योंकि हम दुर्गा मां के बच्चें ही होते हैं।

ग्रुप तो कई बार आ चुका है पर ग्रुप के साथ में पहली बार आई हूं। ग्रुप के मेंबर से इंदौर के बारे में जैसा सुना था वैसा ही पाया। काफी अच्छा है । आयोजकों ने कलाकारों के ठहरने , खाने की व्यवस्था भी अच्छी की है। हर सुविधा हम लोगों को दे रहे हैं।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com