Indore: कोरोना से बचाव के लिए सेंट्रल जेल में कैदियों को निःशुल्क होम्योपैथिक दवा

इंदौर। सेंट्रल जेल में फिलहाल 2500 से भी अधिक कैदी हैं जिनमे लगभग 100 महिला बंदी भी हैं ऐसे में उनके बीच कोरोना की तीसरी लहर में कोई बीमार नहीं हो तथा संक्रमण को रोका जा सके इस हेतु सेंट्रल जेल में कोरोना से बचाव की और इम्यूनिटी बढ़ाने की होम्योपैथिक दवाइयां वितरित की गईं। जिन कैदियों को सर्दी-जुकाम या बुखार था उन्हें विशेष रुप से दवाओं का वितरण किया गया। जेल अधीक्षक अलका सोनकर की पहल पर आयोजित कार्यक्रम के मुख्य अतिथि भारत सरकार के आयुष मंत्रालय (सी सी आर एच) के वैज्ञानिक सलाहकार बोर्ड के सदस्य तथा प्रख्यात होम्योपैथिक डॉ. ए.के. द्विवेदी थे। दवाओं का वितरण करने के साथ-साथ उन्होंने कैदियों को कोरोना से बचाव के लिए जरूरी टिप्स भी दिए।

ALSO READ: उत्तराखंड में बढ़ी सियासी हलचल, मंत्री हरक सिंह रावत को BJP ने पार्टी से निकाला

उन्होंने कहा कि जिस तरह मकर संक्रांति में तिल और गुड़ का महत्व है उसी प्रकार बीमारों की जिंदगी बचाने के लिए दवायें महत्वपूर्ण हैं। मकर संक्रांति के दिन, दान का बहुत महत्व होता है। इसलिए निशुल्क दवा वितरण के लिए हमने यह पावन दिन चुना है। उन्होंने कैदियों को कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन से बचाव के टिप्स भी दिए। अलका सोनकर ने डॉक्टर द्विवेदी को धन्यवाद ज्ञापित करते हुए कहा कि कैदियों को कोरोना से बचाव में उन्होंने पहले भी अहम भूमिका निभाई थी और इस बार भी वो अपनी जिम्मेदारी को बखूबी पूरी कर रहे हैं।

चिकित्सकीय भार कम करते हैं ऐसे आयोजन अलका सोनकर ने कहा कि डॉक्टर द्विवेदी का यह एक ऐसा अनुकरणीय कदम है, जिससे दूसरे डॉक्टर्स और पैरामेडिकल स्टाफ को भी प्रेरणा लेनी चाहिए क्योंकि ऐसे आयोजनों से हमारा चिकित्सकीय भार काफी कम हो जाता है। इलाज के लिए कैदियों को बाहर नहीं ले जाने से उनमें.संक्रमण होने की संभावना भी कम हो जाती है। डॉक्टर द्विवेदी ने कोरोना के अलावा भी कई दूसरे रोगों मरीजों के लिए दवाएं वितरित कीं। इस कार्यक्रम में डॉ विवेक शर्मा राकेश यादव दीपक उपाध्याय एवं सेंट्रल जेल के चिकित्सक तथा जेलर और उप जेलर समेत स्टाफ के अन्य सदस्यगण मौजूद थे।