भारत इस वजह से करेगा राष्ट्रमंडल खेलों का बहिष्कार

0
109

नई दिल्ली। राष्ट्रमंडल खेलों से निशानेबाजी को बाहर करने का भारतीय ओलिंपिक संघ ने विरोध किया है। अब भारत 2022 बर्मिंगम राष्ट्रमंडल खेलों का बहिष्कार करने पर विचार कर रहा है। संघ ने एक प्रस्ताव सरकार के समक्ष रख मंजूरी मांगी है। खेल मंत्री किरण रिजिजू को लिखे पत्र में आईओए अध्यक्ष नरेंदर बत्रा ने इस प्रस्ताव पर बातचीत के लिए उनसे मुलाकात का समय मांगा है।

आईओए ने इससे पहले राष्ट्रमंडल खेल महासंघ की आमसभा से नाम वापस ले लिया था। अब रवांडा में होने वाली आमसभा में भारत हिस्सा नहीं लेगा। आईओए ने क्षेत्रीय उपाध्यक्ष पद के लिए राजीव मेहता और खेल समिति के सदस्य के रूप में नामदेव शिरगांवकर के नाम भी वापस लिए थे।

आईओए का कहना है कि हर बार भारत के अच्छा प्रदर्शन पर नियमों में बदलाव की कोशिश की जाती है। आईओए प्रमुख ने पत्र में लिखा है कि हम 2022 राष्ट्रमंडल खेलों के बहिष्कार का प्रस्ताव रखते हैं, ताकि राष्ट्रमंडल खेल महासंघ को समझ में आए कि भारत विरोधी मानसिकता अब नहीं चलेगी। सीडब्ल्यूजी में एक खास मानसिकता रखने वाले लोगों को समझना होगा कि भारत 1947 में आजाद हो चुका है और अब किसी का उपनिवेश नहीं है। भारत दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है और तेजी से बढ़ती हुई अर्थव्यवस्था भी है।

उन्होंने लिखा है कि हम काफी समय से देख रहे हैं कि भारत जब भी खेलों पर पकड़ बनाने लगता है, तब नियमों में बदलाव की कोशिश की जाती है। अब हमें कड़े सवाल पूछने होंगे और कड़े कदम उठाने होंगे।’ बत्रा ने कहा कि आईओए इतना बड़ा फैसला नहीं ले सकता लिहाजा उन्होंने खेलमंत्री से मुलाकात का समय मांगा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here