अंतरिक्ष में भारत ने रचा एक और इतिहास, लांच की एमिसैट सैटेलाइट | India launches Amisat Satellite

0
70
ISRO Amisat Satellite
ISRO Amisat Satellite

भारत ने अंतरिक्ष की दुनिया में एक और इतिहास रच दिया है। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा से सोमवार सुबह सुबह 9 बजकर 27 मिनट पर भारतीय रॉकेट पोलर सैटेलाइट लांच व्हीकल (पीएसएलवी) द्वारा इलेक्ट्रॉनिक इंटेलीजेंस उपग्रह, एमिसैट का प्रक्षेपण किया गया।

एमिसैट सैटेलाइट के उड़ान भरने के करीब 17 मिनट बाद रॉकेट 749 किमी दूर स्थित कक्षा में 436 किलोग्राम के एमीसेट को प्रक्षेपित किया। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक इसरो जुलाई या अगस्त में नए स्माॅल सैटेलाइट लांच व्हीकल (एसएसएलवी) रॉकेट से दो या ज्यादा रक्षा उपग्रहों को लांच कर सकता है। एमिसैट को कक्षा में रखकर रॉकेट 28 विदेशी उपग्रहों (अमेरिका के 24, लिथुआनिया के दो और स्पेन तथा स्विट्जरलैंड के एक-एक उपग्रह) को 504 किमी की ऊंचाई पर प्रक्षेपित करने के लिए वापस आएगा।

Read More : ISRO का कमाल, एकसाथ 31 सैटेलाइट लांच

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक एमिसैट सैटेलाइट सुरक्षा के नजरिए से भारत के लिए बहुत अहम है। इस उपग्रह का उद्देश्य पाकिस्तानी सीमा सहित अन्य देशों की बाॅर्डर पर भी नजर रखेगा।

 भारत ने अंतरिक्ष में की सर्जिकल स्ट्राइक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को देश के नाम संदेश जारी करते हुए कहा कि भारत आज अंतरिक्ष की महाशक्ति बन गया है। कुछ ही समय पहले हमारे वैज्ञानिकों ने लो अर्थ ऑरबिट में एक लाइव सैटेलाइट को मार गिराया है। उन्होंने कहा कि भारत की इस कामयाबी से पहले ये उपलब्धि रूस, अमेरिका और चीन के पास थी। अब भारत चौथा देशन गया है। उन्होंने कहा कि ये लक्ष्य 300 किलोमीटर दूर था।

उन्होंने कहा कि ये लक्ष्य 300 किलोमीटर दूर था। मिशन ‘शक्ति‘ के तहत तीन मिनट में ऑपरेश पूरा किया। भारत में ही निर्मित ए सैट मिसाइल से मिली कामयाबी। हमारे वैज्ञानिकों पर हमें गर्व ए-सैट मिसाइल भारत को सुरक्षा की दृष्टि से नई मजबूती देगी। इस पर उन्होंने ने डीआरडीओ को बधाई दी है। उन्होंने कहा कि हमारा मकसद शांति बनाए रखना है, युद्ध करना नहीं है। अंतरिक्ष में भारत की प्रगति अहम है। देशवासियों के जीवन में सकारात्मक बदलाव के लिए आधुनिक तकनीक को अपनाना होगा।

इससे पहले पीएम नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर देश के नाम संदेश जारी करने की सूचना दी थी और 11.45 से 12 बजे का तय किया था, लेकिन करीब पौने घंटे देरी से देशवासियों को संबोधित किया।  गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 8 नवंबर 2016 को भी इसी तरह देश को संबोधित किया था। तब पीएम मोदी ने नोटबंदी का ऐलान किया था और देश में हलचल मच गई थी। उस घोषणा में प्रधानमंत्री ने 500 और 1000 रुपये के नोटों पर पाबंदी का ऐलान किया था।

Read More : अंतरिक्ष में महाशक्ति बना भारत: मोदी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here