आजादी मार्च: इमरान को मिला पाक आर्मी का साथ, जारी की चेतावनी

0
64
imran khan

इस्लामाबाद। पाकिस्तान में इमरान खान के खिलाफ जमीयत उलेमा-ए-इस्लाम-फजल (जेयूआई-एफ) के नेता मौलाना फजलुर रहमान के नेतृत्व में विपक्ष का ‘आजादी मार्च’ निकाला जा रहा है। जो अब इस्लामाबाद तक पंहुच गया है। इसी चलते पाक आर्मी ने आजादी आंदोलन को लेकर चेतावनी जारी है। सेना ने कहा है कि किसी को भी देश में अस्थिरता और अराजकता पैदा नहीं करने दी जाएगी।

पाकिस्तान सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर ने आजादी आंदोलन का नेतृत्व कर रहे मौलाना फजलुर रहमान को लकर कहा है कि वह एक वरिष्ठ राजनीतिज्ञ हैं। वे स्पष्ट करें कि वह किस संस्था की बात कर रहे हैं। पाकिस्तान के सशस्त्र बलों ने हमेशा से लोकतांत्रिक रूप से चुनी हुई सरकारों का समर्थन किया है।

बता दे कि पाकिस्तानी जनता इमरान खान को कुर्सी से हटाना चाहती है। तख्ता पलट के लिए जमीयत उलेमा-ए-इस्लाम-फजल (जेयूआई-एफ) के नेता मौलाना फजलुर रहमान के नेतृत्व में विपक्ष का ‘आजादी मार्च‘ इस्लामाबाद तक पहुंच गया है।

मौलाना का कहना है कि उनकी पार्टी द्वारा पीटीआई सरकार को दिया गया समय खत्म हो गया है। ये हुकूमत जाली हुकूमत है, इसका जनादेश आवाम ने तो नहीं दिया। ये फौज द्वारा बनाई गई सरकार को खत्म करने के लिए आजादी मार्च निकाला पड़ा। मौलाना का कहना है कि आजादी मार्च का उद्देश्य इस्लाम और जम्हूरियत को आजाद कराना है। जब तक ये आजाद ना हो जाए हम वापस नहीं जाएंगे। उन्होंने कहा कि कमजोर सरकार के कारण विश्वभर में बेइज्जती हो रही है, बल्कि महंगाई तेजी बढ़ रही है। हालात यह हो गए हैं कि लोगों का जीना मुश्किल हो गया है।

जब तक इमरान खान इस्तीफा नहीं दे देते, तब तक प्रदर्शन जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी इस्लामाबाद में बैठकर सरकार को दो-तीन दिन का समय देना चाहती है। जबकि प्रधानमंत्री इमरान खान ने साफ कर दिया है कि उनके इस्तीफा देने का कोई सवाल ही पैदा नहीं होता। इस पर मौलाना ने कहा कि यदि सरकार ने इस्तीफा देने से इनकार कर दिया तो देश में अराजकता का माहौल पैदा हो जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here