श्री शिवराज सिंह जी चौहान
माननीय मुख्यमंत्री जी महोदय
मध्य प्रदेश शासन, भोपाल,

विषय- 26 जिलो में फैले लम्पी वायरस से एम. पी. में 150 गो माता का निधन हो गया है, कारण पशु चिकित्सा विभाग के अधिकांश पशु चिकित्सक जुगाड़ करके पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक कल्याण में प्रतिनियुक्ति पे घुस गए है. इन सभी पशु चिकित्सको की पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक कल्याण से प्रतिनियुक्ति वापिस लेकर मूल विभाग में भेजे जाने बावत

माननीय मुख्यमंत्री जी,

पुरे देश में लम्पी वायरस से 20 लाख पशुधन चपेटे में आ चुके है, राज्य में मुख्यमंत्री जी ने हाई अलर्ट घोषित किया हुआ है. प्रदेश के 26 जिलो में फैले लम्पी वायरस से 150 गो माता का निधन हो चूका है. 7686 पशु चपेटे में है. इसके लिए पशु पालन विभाग की नीतिया जिम्मेदार है. विभाग के अधिकांश पशु चिकित्सक पिछड़ा विभाग एवं अल्पसंख्यक कल्याण विभाग में प्रतिनियुक्ति पर जमे हुए है.


वही दूसरी तरफ ई-टीवी भोपाल ने 14 फ़रवरी 2021 को खुलासा किया था की प्रदेश का पशुपालन विभाग अधिकारियो एवं कर्मचारियों की कमी से जूझ रहा है, विभाग में करीब दो तिहाई अधिकारियो-कर्मचारियों की कमी बनी हुई है. पशु चिकित्सको के 7265 पदों में से 4406 पद खली पड़े है.
बड़े दुर्भाग्य की बात है की जिन पशु चिकित्सको को ग्रामीण क्षेत्रो में अपनी तैनाती देना थी, वो डाक्टर्स जुगाड़ करके पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक कल्याण विभाग में घुस गए है. ग्रामीण एरिया में पशु चिकित्सकों की कमी की वजह से इलाज मिलने में देरी होती है। इस कारण अस्पताल में आए दिन विवाद की स्थिति बनती है।
मेरा आपसे आग्रह है की जितने भी पशु चिकित्सा विभाग के अधिकांश पशु चिकित्सक जुगाड़ करके पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक कल्याण में प्रतिनियुक्ति पे चले गए है उन सभी की प्रतिनियुक्ति निरस्त करते हुए उन्हें वापिस मूल विभाग पशु पालन विभाग में उनकी तैनाती के आदेश सम्बंधित विभाग के अधिकारियो को जारी करने का कष्ट करे.
संलग्न – समाचार पत्र की कतरन
धनयवाद
केदार शकर सिरोही
प्रदेश अध्यक्ष
किसान कांग्रेस