इंदौर में नाजुक स्तिथि में मिले पूर्व साइंटिस्ट

0
12
baba

एम. एच. खान, आई. आई. टी. मद्रास से इंजीनियरिंग ग्रेजुएट, भाभा एटॉमिक रीसर्च सेंटर(BARC) में 16 वर्ष साइंटिस्ट रह चुके हैं। इंग्लिश ऐसी कि अच्छे से अच्छे मास्टर ग्रेजुएट को बात करने में पीछे छोड़ दें। सोनू व्यास ने बताया  कि एक बेहद ही बुजुर्ग व्यक्ति आजाद नगर थाना इंदौर से थोड़ी दूरी पर बिना वस्त्र एवं गंदगी में पड़े हुए थे।

कमर के नीचे के हिस्से से पैरालिसिस ग्रस्त होने से वे चलने में असमर्थ थे। ख़बर मिलने पर संस्था से जुड़े शशिकांत लसार, कुलदीप दीक्षित, सत्यम त्रिपाठी, सौरभ यादव वहां पहुंचे।वहां पहुंचकर उनकी साफ सफाई कर सहायता के लिए कई जगह प्रयास किया लेकिन कोई स्थायी समाधान न मिलने पर 108 पर फ़ोन लगाकर M. Y. हॉस्पिटल लेकर गये एवं उनका वहां उपचार प्रारंभ करवाया।

रात में 2:30 बजे तक वहां रहकर उनके रहने, खाने इत्यादि की व्यवस्था की एवं अगले दिन उनके स्थायी समाधान खोजने के विश्वास के साथ घर आ गए। आप खुद देख सकते है कि आश्रम पहुंचकर दादा को नहलाकर ऐसा कर दिया कि पहचानना भी मुश्किल हो रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here