कभी आप भोपाल जाए तो यहां जरूर पहुंचे कुछ नया मिलेगा

0
17

भोपाल की पहचान वैसे तो झीलो और बाबू की नगरी के रूप में है लेकिन सरकार ने वहां पर कई एसी जगह बना दी है। जो ना केवल आंखों को सुकून देती है, बल्कि आप क्या ज्ञान भी बढ़ाती है। ऐसी ही दो जगह के बारे में लेखक आईएएस अफसर आनंद शर्मा ने जो लिखा है वह आप जरूर पढ़ें।

कभी भोपाल आने पर बड़े तालाब की बोट राइडिंग और वन विहार की सैर के बाद समय बच रहा हो और कुछ सारगर्भित करने का मन हो तो दो जगहें हैं जहाँ आप को ज़रूर जाना चाहिए |

पहला है म प्र सरकार के जनजातीय कार्य विभाग द्वारा स्थापित ट्राइबल म्यूज़ियम और दूसरा है भारत सरकार का अखिल भारतीय मानव संग्रहालय जो श्यामल हिल पर स्थित हैं | दोनों ही स्थल भारत में पायी जाने वाली विभिन्न आदिम जनजातियों और उनकी संस्कृति की झलक दिखाते हैं |

 

पहला यानि ट्राइबल म्यूज़ियम का उद्घाटन 6 जून 2013 को राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी के हाथों हुआ था और अब यह संस्कृति विभाग के द्वारा संचालित है , इसमें मध्यप्रदेश में पायी जाने वाली सात प्रमुख जनजातियों की संस्कृति का चित्रण है , और दूसरा है मानव संग्रहालय जहाँ भारत में पायी जाने वाली छह सौ से भी अधिक जातियों में से चालीस जनजातियों के रहन सहन और उनकी संस्कृति को उकेरा गया है |

दूसरा संग्रहालय 200 एकड़ के विशाल भूभाग पर फैला हुआ है और 1972 से आरम्भ है | दोनों ही म्यूज़ियम बेमिसाल है , ट्राइबल म्यूज़ियम थोड़ा फेंसी और फ़ोटजेनिक है , जबकि मानव संग्रहालय वास्तविकता के निकट है | कुछ चित्र जो इस सप्ताहांत में हमने भ्रमण के दौरान लिए वो आपकी उत्सुकता वृद्धि के लिए पेश हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here