Breaking News

अगर आप हैं डिप्रेशन के शिकार तो ये खबर आपको जरूर पढ़नी चाहिए

Posted on: 06 Jun 2018 08:58 by Mohit Devkar
अगर आप हैं डिप्रेशन के शिकार तो ये खबर आपको जरूर पढ़नी चाहिए

डिप्रेशन के इलाज बाद सिर्फ 20 फीसदी युवा लंबे समय तक सामान्य जीवन जी पाते हैं. इसमें इसका कोई मतलब नहीं है कि उन्हें किस तरह का इलाज दिया गया है. इस शोध में ऐसे 319 युवाओं को शामिल किया गया, जो अलगाव, सामाजिक या सामान्य चिंता के विकारों से ग्रस्त थे. इनकी आयु 10 से 25 साल के बीच रही.

Related image

via

यह रिसर्च ‘अमेरिकन एकेडमी ऑफ चाइल्ड एंड एडोलसेंट साइकेट्री’ नामक पत्रिका में प्रकाशित हुआ है. अमेरिका के कनेक्टिकट विश्वविद्यालय से संबद्ध रिसर्च की सह लेखक गोल्डा गिंसबर्ग ने कहा, “जब आप पाते हैं कि हमारे द्वारा दिया गए बेहतरीन इलाज का कुछ बच्चों पर असर नहीं पड़ा तो यह हतोत्साहित करता है.

Related image

via

शोधकर्ताओं ने कहा कि नियमित मानसिक स्वास्थ्य की जांच वर्तमान मॉडल की तुलना में डिप्रेशन का इलाज करने का बेहतर तरीका है. इस रिसर्च के लिए प्रतिभागियों को साक्ष्य आधारित इलाज दिया गया. इसमें स्टरलाइन या संज्ञानात्मक व्यावहारिक चिकित्सा दी गई. इसके बाद शोधकर्ताओं ने हर साल चार साल तक इनका परीक्षण किया.

Related image

via

लगातार जांच से डिप्रेशन के स्तर का आंकलन किया गया, लेकिन इलाज नहीं दिया गया. शोधकर्ताओं ने कहा कि अन्य अध्ययनों में एक, दो, पांच या 10 सालों पर असर की सिर्फ एक जांच की गई. यह पहला अध्ययन है, जिसमें युवाओं के डिप्रेशन का इलाज हर साल लगातार चाल साल तक किया गया.

Related image

via

अनवरत जांच करते रहने का मतलब है कि शोधकर्ता एक बार ठीक होकर फिर बीमार पड़ने वाले मरीजों के साथ चिंताग्रस्त रहने वाले व सही अवस्था में रहने वालों की पहचान कर सकते हैं. इसमें शोधकर्ताओं ने पाया कि आधे मरीज एक बार ठीक होने के बाद फिर से बीमार पड़ गए.

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com