पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ (Kamal Nath) जी ने आज भोपाल पीसीसी में मीडिया से चर्चा में कई महत्वपूर्ण सवालों के जवाब दिए इसके साथ उन्होंने अपने विचार भी व्यक्त किए। इस दौरान पीएफ़आई (PFI) पर कार्रवाई के सम्बंध में पूछे गए सवाल पर कहा कि – यदि कोई सबूत है कि यह संगठन आतंकवादी गतिविधियों में लिप्त है , आतंकवादी संस्थाओं से जुड़े हैं , तब पीएफआई हो या कोई भी संगठन हो ,उन पर कड़ी से कड़ी कार्रवाई होना चाहिए। आज आतंकवाद बड़े खतरे की बात है और आम जनता को तो सुरक्षा चाहिए और यदि इतने वर्षों से पीएफ़आई की गतिविधियाँ चल रही थी तो यह आपका इंटेलिजेंस फ़ेल्यूअर है ,आप इतने वर्षों से क्या कर रहे थे ,यह कोई आज तो पैदा नहीं हुई ,इसका रजिस्ट्रेशन कब से हुआ है यदि यह पहले से ही आतंकवादी संस्थाओं से जुड़ी हुई थी तो आप इतने वर्षों से क्या कर रहे थे , आज यह सवाल सामने है ?

 

Also Read-Lata Mangeshkar Jayanti 2022 : इंदौर के तोपखाने इलाके में हुआ था स्वरसम्राज्ञी लता मंगेश्वर का जन्म, गाए 30000 से अधिक गाने, 2001 में ‘भारत’ ने माना ‘रत्न’

पंचायत चुनाव में भाजपा ने पुलिस ,पैसा ,प्रशासन का दुरुपयोग किया-कमलनाथ

नगरीय निकाय चुनाव ,पंचायत चुनाव में किस प्रकार भाजपा ने पुलिस ,पैसा ,प्रशासन का दुरुपयोग किया ,किस तरह से लोगों को डराया धमकाया गया ,लोगों को प्रलोभन दिया गया , यह सभी ने देखा। क्योंकि भाजपा को एहसास हो गया है कि उनके साथ अब जनता नहीं बची है , उनके साथ बस पुलिस ,प्रशासन व पैसा बचा है। राष्ट्रीय अध्यक्ष के सवाल पर कहा कि- मेरी खुद अशोक गहलोत जी से बात हुई है ,उन्होंने कहा कि मैंने तो बैठक बुलाई थी।कुछ लोगों ने अनुशासनहीनता की है तो उनको शोकाज नोटिस जारी हो गए है। पर्यवेक्षकों ने अपनी रिपोर्ट दे दी है।मैं पहले भी कह चुका हूं कि मैं मध्यप्रदेश नहीं छोड़ना चाहता हूँ , 12 माह बचे हैं और यदि मैं कोई जिम्मेदारी लेता हूं तो मेरा ध्यान मध्य प्रदेश से हटेगा।अभी मेरा पूरा फोकस सिर्फ़ मध्यप्रदेश पर है , मैं अपना ध्यान मध्यप्रदेश से हटाना नहीं चाहता।

Also Read-PFI Ban: पीएफआई पर पांच साल का BAN, राष्‍ट्र और मानवता विरोधी गतिविधियों में शामिल होने के आरोप

नई लीडरशिप पर पूछे सवाल पर कहा

भाजपा द्वारा नई लीडरशिप की बात के पूछे सवाल पर कहा कि – मोदी जी से पूछना चाहिए कि वो नई लीडरशिप को आगे आने क्यों नहीं दे रहे है , येदियुरप्पा क्या नई लीडरशिप से आते है , नड्डा जी का चयन कैसे हुआ ,क्या चुनाव से हुआ ,अभी उनका एक्सटेंशन कैसे हुआ , किन लोगों ने तय किया , यह सच्चाई सभी के सामने है। भाजपा के नेताओ को उल्टे सीधे बयान देने की आदत बन चुकी है और अगले 12 महीने में और इनके उल्टे सीधे बयान सामने आएंगे क्योंकि अब यह तड़प रहे हैं क्योंकि उनकी रवानगी होने वाली है।

महाकाल मंदिर के विकास की योजना को लेकर सारे प्रमाण फाइलों में है

महाकाल मंदिर के संदर्भ में बात करते हुए पूर्व सीएम कमलनाथ ने कहा कि महाकाल मंदिर के विकास की योजना को लेकर सारे प्रमाण फाइलों में है। फाइलों में वे देख ले कि किसने इसमें शुरुआत की ,बजट आवंटन किसने किया ,किसने योजना बनाई ,किसने बैठक की , सारे मिनट्स रिकोर्ड में है।

इन विषयों पर भी की चर्चा

मैंने राहुल गांधी जी से चर्चा की थी लेकिन उन्होंने अध्यक्ष बनने से मना कर दिया , इसलिये अब चुनाव हो रहे हैं। प्रियंका गांधी जी का अभी भारत जोड़ो यात्रा में मध्यप्रदेश में शामिल होने का अभी कोई कार्यक्रम तय नहीं हुआ है। 46 नगरीय निकाय के चुनाव के पूछे सवाल पर कहा कि- हमारे सभी नेता लगे हुए थे ,भाजपा ने पुलिस ,प्रशासन , पैसे का इन चुनावों में भी जमकर दुरुपयोग किया।आज भाजपा को आज यह सब करने की क्यों आवश्यकता पड़ रही है ? हमारा फोकस हर पर चुनाव रहता है और आगामी विधानसभा चुनाव पर भी हमारा मुख्य फोकस है। भारत जोड़ो यात्रा से राजस्थान मसले का कोई संबंध नहीं है।भाजपा जबरन गुमराह करने का काम कर रही हैं। यात्रा को बेहद सफलता मिल रही है और यह सफल रहेगी क्योंकि आज जनता में बेहद आक्रोश है। मीडिया की राजनीति से अब जनता प्रभावित होने वाली नहीं है क्योंकि जनता समझदार है। आज भाजपा बेरोजगारी की बात नहीं करती ,किसानों की बात नहीं करती ,छोटे व्यापारी की बात नहीं करती है ,यह तो जनता को गुमराह करने के लिए विभिन्न मुद्दों को सामने लाते हैं।