Breaking News

मनीष सिंह के उज्जैन जाते ही हडकंप, कर्मचारियों से बोले तनख्वाह लेते हो तो पूरा काम करें

Posted on: 15 May 2018 15:46 by Lokandra sharma
मनीष सिंह के उज्जैन जाते ही हडकंप, कर्मचारियों से बोले तनख्वाह लेते हो तो पूरा काम करें

उज्जैन 15 मई। कलेक्टर श्री मनिष सिंह ने मुख्यमंत्री श्रमिक सेवा (प्रसुति सहायता) योजना के संबंध में चिकित्सा विभाग के अधिकारियों व कर्मचारियों को निर्देश देते हुए कहा कि तनख्वा लेते हैं तो पूरी निष्ठा से काम भी करना होगा।  इस योजना के अंतर्गत शतप्रतिशत परिणाम लाने के लिए सभी संबंधितों को योजना की प्रक्रिया स्वयं समझकर निचले स्तर तक समझानी होगी।  मंगलवार 15 मई को मेला कार्यालय में आयोजित बैठक में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, चिकित्सा विभाग के जिला एवं खण्ड स्तर के अधिकारियों व कर्मचारी उपस्थित थे।

A-03-1

मुख्यमंत्री श्रमिक सेवा (प्रसुति सहायता) योजना का उद्देश्य ऐसी गर्भवती महिलाओं को चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध कराना है जो असंगठित श्रमिक योजना के अंतर्गत पंजीकृत है। महिलाओं एवं शिशुओं के स्वास्थवर्धन के लिए नगद प्रात्साहन राशि भी दी जायेगी।  इस योजना में 16 हजार रूपए की राशि दो किश्तों में, जिसमें प्रथम किश्त गर्भावस्था के दौरान निर्धारित अवधि में अंतिम तिमाही तक चिकित्सक या एएनएम द्वारा चार प्रसव पूर्ण जांच कराने पर 4 हजार रुपए तथा दूसरी किश्त शासकिय चिकित्सालय में प्रसव होने पर 12 हजार रुपए की राशि प्रसुति दी जायेगी।

योजना की सफलता के लिए जनप्रतिनिधियों से लिया जाएगा सहयोग

A-02-1

बैठक में कलेक्टर ने यह भी बताया कि मुख्यमंत्री की जनकल्याणकारी योजना को सफल बनाने के लिए स्थानीय जनप्रतिनिधियों का भी सहयोग जिला प्रशासन द्वारा लिया जाएगा।  मुख्यमंत्री श्रमिक सेवा (प्रसुति सहायता) योजना के लिए चिकित्सा विभाग द्वारा जारी फार्म जनप्रतिनिधियों को भी भेजे जाएंगे। सभी खण्डस्तरीय चिकित्सा अधिकारियों को कलेक्टर ने निर्देश दिए कि फार्म में उपलब्ध डाटा खण्ड स्तर पर खण्ड चिकित्सा अधिकारी द्वारा पोर्टल पर दर्ज करवाया जाएगा।

मुख्यमंत्री श्रमिक सेवा (प्रसुति सहायता) योजना के संबंध में खण्ड स्तर तक बेहतर जानकारी पहुंचाने के लिए कलेक्टर ने जिला एवं खण्ड के सभी सीडीपीओ एवं एएनएम को बुधवार को अपरान्ह 10 बजे मेला कार्यालय में उपस्थित होने के लिए निर्देशित किया है।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com