ICICI बैंक का मध्यप्रदेश में 25 फ़ीसदी अधिक रिटेल ऋण वितरित करने का लक्ष्य

0
42
ICICI

इंदौर: आईसीआईसीआई बैंक ने मंगलवार को घोषणा करते हुए बताया कि बैंक का उद्देश्य मध्यप्रदेश में खुदरा संवितरण को 25 फीसदी बढ़ाते हुए वित्त वर्ष 2020 में 6,200 करोड रुपए तक ले जाना है। घोषणा के मुताबिक रिटेल लोन के सभी सेगमेंट जैसे कि कंज्यूमर लोन, मोर्गज और एग्रीकल्चर संबंधित लोन को राज्य में शीघ्र गति से बढ़ाया जाएगा।

इस विकास को हासिल करने के लिए बैंक का इरादा कंजूमर लोन बांटने पर अधिक ध्यान देना है, जिसमें पर्सनल और ऑटो लोन को 30 फीसदी बढ़ाते हुए 1800 करोड रुपए तक ले जाना है। कृषि संबंधी ऋणों के संवितरण को 28 फीसदी बढ़ाते हुए 3400 करोड़ रुपए करना। बंधक क्रेन संवितरण को भी लगभग 20 फ़ीसदी तक बढ़ाकर 1000 करोड़ रुपये तक ले जाना शामिल है।

आईसीआईसीआई बैंक के कर्मचारी निदेशक अनूप बागची ने कहा कि पिछले कुछ सालों से मध्यप्रदेश में रिटेल कंज्यूमर लोन में अच्छी वृद्धि देखने को मिल रही है। राज्य की अर्थव्यवस्था में मजबूत वृद्धि के साथ हम वित्त वर्ष 2020 में खुदरा ऋण वितरण में 25 फ़ीसदी बढ़ोतरी के साथ 6200 करोड रुपए की संभावना देखते हैं। हम राज्य में वृद्धि के लिए पर्सनल, ऑटो, होम लोन और स्वरोजगार के लिए ऋणों पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं।

बागची ने आगे कहा कि इस विकास का एक महत्वपूर्ण चालक हमारी तकनीक है जो हमारे ग्राहकों को तत्कालिक ऋण की पेशकश करती है और हमारे उत्पादों की पहुंच का टीयर दो और तीन बाजारों में विस्तार कराती है। हमारी तकनीकी प्रगति के साथ अब हम अपने डिजिटल चैनलों के माध्यम से ग्राहकों को तुरंत मंजूरी के साथ होम लोन, ऑटो ऋण और व्यक्तिगत ऋण प्रदान करते हैं।

उपभोक्ता ऋण पोर्टफोलियो में पर्सनल और ऑटो ऋण पूरे मध्यप्रदेश में तेजी से बढ़ रहे हैं। बागची ने बताया कि पर्सनल लोन के मामले में बैंक को अपनी तत्काल पेशकश के लिए उत्साहजनक प्रतिक्रिया मिल रही हैं जिसे ‘इंस्टा पीएल’ कहा जाता है। उन्होंने कहा इस सुविधा के माध्यम से हमारे प्री-अप्रूव्ड कस्टमर व्यक्तिगत ऋण के लिए आवेदन कर सकते हैं और तुरंत अपने खाते में 15 लाख रुपए तक प्राप्त कर सकते हैं। इसके अतिरिक्त हमने टीयर 2 शहरों/जिलों जैसे रीवा, गुना, सागर, बैतूल, मंदसौर में पर्सनल लोन के लिए वेतनभोगियों सहित स्वरोजगार करने वाले व्यक्तियों में अच्छा उठाव देखा है। इसके अलावा पर्सनल पोर्टफोलियो के भीतर हम सेल्फ एंप्लॉयमेंट सेगमेंट से व्यवसाई ऋण में भी महत्वपूर्ण झुकाव देख रहे हैं क्योंकि वे कर्ज तक जल्दी पहुंच को पसंद करते हैं। इसलिए हमने प्रत्येक स्व नियोजित व्यक्ति के लिए टेलरमेड सलूशन देने के लिए बिजनेस इंस्टॉलमेंट लोन का एक पूर्ण विकसित प्रोडक्ट सूट तैयार किया है, जिससे कर्ज देने का निर्णय मुख्य रूप से उनकी बैंकिंग आदतों जैसे बिक्री कारोबार और टोरेंट होती जीएसटी रिटर्न आदि पर आधारित होता है।

ऑटो ऋण पर उन्होंने कहा हमने हाल ही में प्री-अप्प्रोवेद ऑटो लोन की शुरुआत की है जिससे हमारे लाखों ग्राहकों को कार ऋण के लिए अंतिम मंजूरी पत्र तुरंत दिया जाता है। यह 7 वर्ष की अवधि के लिए 20 लाख रुपए तक का लोन है जो पूरी तरह से डिजिटल तरीके से दिया जाता है। टायर दो और तीन शहरों में ऑटो ऋण की मांग तेजी से बढ़ रही है। हमारा ध्यान इंदौर और भोपाल जैसे प्रमुख शहरों के साथ-साथ होशंगाबाद, सागर, खंडवा, खरगोन, उज्जैन, देवास और छिंदवाड़ा जैसे शहरों में मौजूद क्षमता का दोहन करने का होगा।

बंधक पोर्टफोलियो के भीतर प्रधानमंत्री आवास योजना के माध्यम से किफायती आवास खंड श्रेणी में विकास को बढ़ावा देना है। बैंक अपने होम लोन के प्रस्तावों को बहुत तेजी के साथ किफायती आवासों के लिए आगामी शहरों जैसे खंडवा, पिपरिया, सतना, रीवा, जबलपुर आदि में बढ़ा रहा है।

वाघाची ने कहा कि हमारी योजना मध्यप्रदेश में अपने बंधक ऋण संवितरण को 20 फीसदी तक बढ़ाकर वित्त वर्ष 2020 में लगभग एक हजार करोड़ रुपए तक ले जाना है। इस वृद्धि के चालक के रूप में हमने किफायती आवास खंड पर ध्यान केंद्रित करने इंस्टा होम लोन के प्रवेश और टॉप अप लोन के साथ-साथ स्वरोजगार सेगमेंट के लिए होम लोन पर जोर देने के साथ एक बहुआयामी रणनीति अपनाई है। हमने हाल में डिजिटल रूप से तुरंत एक करोड़ रुपए तक का होम लोन अनुमोदन प्राप्त करने के लिए उद्योग में अपनी तरह की पहली सुविधा शुरू की है या फिर औद्योगिक के नेतृत्व वाली पहल हमारे लाखों ग्राहकों के लिए उपलब्ध है और हमारी विकास रणनीति का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है।

राज्य में नेटवर्क और ग्रामीण इलाकों को सशक्त बनाने की पहल के बारे में

आईसीआईसीआई बैंक का मध्यप्रदेश में शाखाओं का विस्तृत ऋण नेटवर्क है। बागची ने बताया हम राज्यों में अर्ध शहरी और ग्रामीण बाजारों की सेवा करने के लिए प्रतिबद्ध है। मध्यप्रदेश में लगभग 240 शाखाएं और 390 से अधिक एटीएम और हमारी लगभग 63 फीसदी शाखाएं अर्धशहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में स्थित है। राज्य में हमारा विस्तृत नेटवर्क ग्राहकों के एक विस्तृत क्षेत्र की सेवा पर हमारे ध्यान का प्रमाण है।

बैंक के पास बिजनेस कॉपर स्टैंड्स के माध्यम से करीब 350 ई-कस्टमर सर्विस प्वाइंट का नेटवर्क है जो प्रदेश के 730 शहरों गांव के ग्राहकों को बैंक से जोड़ता है जो इससे पहले बैंकिंग की दुनिया से दूर थे।

मध्यप्रदेश में स्वयं सहायता समूह के लिए बैंक निजी बैंकों में सबसे बड़ा ऋण दाता है। बैंकों ने 22 फीसदी से ज्यादा एसएचजी को लोन दिया है, जबकि मध्य प्रदेश में इस कार्यक्रम से लगभग तीन लाख महिलाएं लाभान्वित हुई है। वित्तीय सहायता 380 करोड़ रुपए तक आंकी गई है। वित्त वर्ष 2020 तक 300 करोड़ रुपये की सहायता के साथ 3.8 लाख महिला लाभार्थियों तक पहुंचाने का इरादा रखता है। बैंक को एसएचजी सेक्टर में अपने काम के लिए नाबार्ड की ओर से लगातार 3 वर्षों तक एक निजी क्षेत्र के वाणिज्यिक बैंक के रूप में घोषित किया गया है।

आईसीआईसीआई मध्यप्रदेश में महिलाओं के लिए एकेडमी स्कूल के माध्यम से निशुल्क व्यवसाय प्रशिक्षण देने में भी सक्रिय रूप से शामिल रहा है। इंदौर में एकेडमी का सेंटर राज्य के युवाओं को निशुल्क व्यवसायिक प्रशिक्षण प्रदान करता है। अब तक एकेडमी ने 6900 से अधिक विद्यार्थी को व्यवसाय प्रशिक्षण प्रदान किया है और उन्हें नौकरी के अवसर पाने में सहायता प्रदान की है। वित्त वर्ष 2020 के अंत तक इसका लक्ष्य 8000 से अधिक युवाओं को एक स्थाई आजीविका के लिए कौशल प्रदान करना है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here