मुंबई के कारोबारी को 186 करोड़ों की चपत कैसे लगी

0
51
rupee

ओंकार करंबेलकर हाल ही में मुंबई के एक कारोबारी को एक ही रात में 186 करोड़ रुपए की चपत लग गई। यह सब सिम स्वैपिंग यानी सिम बदलने के कारण हुआ। कारोबारी के खाते से ये रकम 28 अलग-अलग खातों में ट्रांसफर कर दी गई। ये धोखाधड़ी एक ही रात में कर दी गई।

इस तरह के मामलों में किसी शख्स के सिम कार्ड को ब्लॉक करने की रिक्वेस्ट डाली जाती है। जैसे ही सिम कार्ड ब्लॉक होता है, वित्तीय धोखाधड़ी करने के लिए नई सिम के जरिये किसी लेन-देन के लिए वन टाइम पासवर्ड (ओटीपी) की रिक्वेस्ट डाल दी जाती है।

फिर जैसे ही ओटीपी आता है, उसकी मदद से एक खाते से अन्य खातों में पैसा ट्रांसफर करने जैसे लेने-देन किए जाते हैं। इन दिनों ज्यादातर लेन-देन ऑनलाइन या फिर डिजिटल माध्यम से होता है। चूंकि लोगों की अधिकतर जानकारियां ऑनलाइन उपलब्ध होती हैं। ऐसे में धोखाधड़ी करने वाले लोग इसका फायदा उठाते हैं और सिम स्वॉपिंग के माध्यम से ठगी करते हैं।

कैसे होता है सिम स्वैप

साइबर सिक्योरिटी एक्सपर्ट एडवोकेट प्रशांत माली ने बताया कि किस तरह से सिम स्वैपिंग की जाती है और इससे बचाव के रास्ते क्या हैं। वो कहते हैं  2011 के बाद से इस तरह के अपराध बढ़े हैं। सिम स्वैपिंग सिर्फ एक शख्स नहीं करता, बल्कि इस तरह के काम में कई लोग शामिल रहते हैं। संगठित गिरोह इसे अंजाम देते हैं। साइबर एंड लॉ फाउंडेशन की आंतरिक रिसर्च से पता चला है कि 2018 में ही इस तरीके से भारत में 200 करोड़ रुपए उड़ा लिए गए। जो लोग इस तरह के अपराधों के शिकार होते हैं, वे पढ़े-लिखे होते हैं, लेकिन सुरक्षा को लेकर वो सजग नहीं होते। ऐसे में इसका खामियाजा भी उन्हें भुगतना पड़ता है। अलग-अलग तरह के मीडिया, सोशल मीडिया के जरिये पहले तो आप पर नजर रखी जाती है और आपकी जानकारियां जुटाई जाती हैं। कई बार आपको किसी अनजान नंबर से कॉल आती है और जानकारी ली जाती है। कई बार फिशिंग लिंग भी भेजे जाते हैं, जिनमें आपको क्लिक अपनी प्राइवेट इंफॉर्मेशन भरने के लिए कहा जाता है। कई बार ये धोखेबाज बैंकों के डेटाबेस को भी खरीद लेती है। जैसे ही उनके पास आपकी जानकारियां आती हैं, वे आपके नाम का फर्जी आईडी कार्ड बना सकते हैं और उसकी मदद से टेलिकॉम कंपनियों को सिम ब्लॉक करने की रिक्वेस्ट डाल सकते हैं। कई बार वे वायरस या मैलवेयर की मदद से भी जानकारियां जुटाते हैं। जैसे ही टेलिकॉम कंपनियां नया सिम कार्ड देती हैं, ठग नए सिम से आराम से ओटीपी हासिल करके वित्तीय ट्रांजेक्शन कर सकते हैं। चूंकि नया सिम इन ठगों के पास होता है, इसलिए ओटीपी इनके पास ही आ रहा होता है। वे आपके खाते में मौजूद रकम को अन्य लोगों को आराम से ट्रांसफर कर सकते हैं।

अगर कोई आपके खाते में पैसा डालना चाहे : प्रशांत माली कहते है कि अगर कोई शख्स आपसे कहता है कि वो आपके खाते में कुछ पैसा जमा कराना चाहता है तो उससे भी सावधान रहें। वो बताते हैं, ‘‘वे लोग आपसे कहेंगे कि रकम का 10 फीसदी आपको दें या 10 हजार रुपए आपको देंगे। आपको ऐसे फोन भी आ सकते हैं जिनमें कहा जाएगा कि कुछ ही देर में आपके खाते में रकम भेजी जाने वाली है। ये रकम सिम स्वैपिंग के माध्यम से किसी और के खाते से अवैध तरीके से उड़ाई गई रकम हो सकती है।’ ‘ऐसे में आप अनजाने में अपराधी बन सकते हैं, क्योंकि आपका खाता भी उन धोखेबाजों के अपराध का हिस्स बन जाएगा। अगर कोई शख्स बिना मतलब आपके खाते में पैसे जमा करना चाहता है तो उसके झांसे में न आएं।’

अपने महत्वपूर्ण कागजात हर किसी को न दें

महाराष्ट्र, साइबर डिपार्टमेंट के एसपी बालसिंह राजपूत ने उन गलतियों के बारे में बताया जो लोग आमतौर पर ऑनलाइन ट्रांजैक्शन के समय करते हैं। उन्होंने कहा, ‘क्रेडिट कार्ड और आधार कार्ड की जानकारी किसी के साथ शेयर नहीं करनी चाहिए। अगर आप ऑनलाइन लेन-देन कर रहे हैं, तो यह सुनिश्चित कर लें कि आप सिक्योर्ड वेबसाइटों के माध्यम से ही ऐसा कर रहे हों। हां, अपना ओटीपी या कार्ड का सीवीवी किसी को न दें।

उन्होंने कहा, ‘ये ध्यान रखना चाहिए कि आप अपने महत्वपूर्ण कागजात किसी को दें तो उसके ऊपर यह जरूर लिखें कि किस काम के लिए आप इनकी फोटोकॉपी दे रहे हैं और ये कॉपी इसी काम में इस्तेमाल होनी चाहिए। इससे भी कागजात का दुरुपयोग रुक सकता है। अगर आप किसी व्यक्ति या संस्थान को अपने कागजात की प्रतिलिपियां दे रहे हैं तो पहले सोच लें कि ऐसा करना वाकई जरूरी है या नहीं।

सिम स्वैप से बचने के लिए क्या करना चाहिए

प्रशांत माली सुझाव देते हें, ‘‘हर बैंक खाते के साथ ईमेल अलर्ट सुविधा होनी चाहिए, ताकि अगर अचानक सिम कार्ड बंद हो जाए तो कम से कम ईमेल के माध्यम से तो पता चल पाए कि कोई आपकी इजाजत के बिना लेन-देन कर रहा है। इससे आप तुरंत बैंक को जानकारी देकर नुकसान टाल सकते हैं।’’

‘‘ध्यान देने की बात यह है कि सिम स्वैपिंग का काम अधिकतर शुक्रवार या शनिवार को किया जाता है। कई बार छुट्टियों के दौरान भी ऐसे ठगी की जाती है। ऐसा इसलिए क्योंकि लोगों को छुट्टियों के कारण बैंकों या फिर टेलिकॉम कंपनियों से संपर्क करने में मुश्किल होती है। इसलिए, अगर आपका सिमकार्ड इन दिनों में अचानक बंद हो जाए तो सावधान होकर बैंक खातों को सुरक्षित रखने के लिए कदम उठाएं।’’

 

Read More :- नीरव मोदी से पहले इस व्यापारी के चंगुल में फंस चुका है PNB, लगाया था करोड़ो का चुना

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here