Breaking News

जॉर्ज फर्नांडिस को मिला था मुंबई बंद सम्राट का खिताब

Posted on: 29 Jan 2019 11:30 by Pawan Yadav
जॉर्ज फर्नांडिस को मिला था मुंबई बंद सम्राट का खिताब

प्रसिद्ध लेखक तथा ज्योतिषी शशिकांत गुप्ते की टिप्पणी

पूर्व रक्षामंत्री जॉर्ज फर्नांडिस का आज लंबी बीमारी के बाद निधन होगया।जार्ज साहब एक जुझारू नेता थे।उन्हें मुंबई बंद सम्राट का खिताब मिला था।वह हमेशा गरीबो की लड़ाई लड़ते थे।वह एक अच्छे वक्ता थे,अपने भाषणों में वह हमेशा बेरोजगारी,गरीबी,भूखमरी,जैसी समस्याओं को पूर्ण आकड़ो के साथ जनता के बीच रखते थे।आम आदमी की आय न्यूनतम कितनी होना चाहिए।इस पर वह जब बोलते थे तब कहते थे “एक व्यक्ति अपराध करता है चोरी करता है, जेब काटता है,उसे जैल में (सन1983 की बात है) होती है तब उसे सरकार छः रुपये प्रतिदिन के हिसाब से खाना मिलता है भारत मे औसत परिवार पाचँ व्यक्तियों का होता हूं इस हिसाब से पाँच गुणा छः तीस रुपये तो प्रति परिवार सिर्फ खाने का मिलना ही चाहिए।इसके बाद पहनने के कपड़े घर का अन्यसामान के लिए भी रुपये चाहिए।ऐसे व्यावहारिक प्रश्न आकड़ो के साथ प्रस्तुत करते थे।

वह समाजवादी नेता,विचारक,डॉ राममनोहर लोहिया जी के विचारों प्रभावित होकर समाजवादी आंदोलन में शरीक हो गए।अंत तक वह समाजवादी रहे।वह संघर्ष करते हुए कई बार पुलिस प्रशासन के लाठियों से पीटे गए।उनके शरीर का कोई ऐसा अंग होगा जहाँ फेक्चर न हुआ हो।मुम्बई के दौरान जब उन्होंने रेल रोको आन्दोलन किया था,तब वह रेलवे ट्रैक पर सोगये थे ऐसी स्थिति में उन पर लाठियों का प्रहार हुआ था।1975 में आपातकाल के दौरान उन्होंने तानाशाही के विरोध में भूमिगत होकर अभियान चलाया।बरोदा के डायना माइड काण्ड के नाम से एक आंदोलन चलाया था।जिस कारण उन्हें देशद्रोही भी कहा गया।जीवनभर वह संघर्षरत रहे।बस एक ही गलती उनसे हुई,उन्होंने भाजपा के साथ हाथ मिलाकर अपनी राजनीतिक विश्वसनीयता पर प्रश्न लगा लिया था।इस कारण वह गोधराकांड का मुखर होकर विरोध नही कर पाऐ।

जीवन कभी कभी ऐसे निर्णय लेने पड़ते है। जो भो हो जार्ज साहब को एक समाजवादी, जुझारू नेता के रूप ही जाना जाएगा।आज हमने जमीनी संघर्ष का एक नेता खो दिया। इंदौर के समाजवादी परिवार के संयोजक के नाते मेरी सभी समाजवादी साथियो की ओर से जार्ज साहब को विनम्र श्रद्धांजलि।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com