Breaking News

हेमामालिनी का मेकअप और मथुरा के बंदर | Hema Malini Electoral Battle for a second time from Mathura ‘Lok Sabha Seat’

Posted on: 18 Apr 2019 15:57 by shivani Rathore
हेमामालिनी का मेकअप और मथुरा के बंदर | Hema Malini Electoral Battle for a second time from Mathura ‘Lok Sabha Seat’

भाजपा के टिकट पर मथुरा लोकसभा सीट से दूसरी बार चुनावी मुकाबले में उतरी हेमा मालिनी(hema malini) को तरह-तरह के सवालों का सामना करना पड़ता है। जाहिर है सवाल दिलचस्प हो तो जवाब भी वैसे ही मिलेंगे। हेमामालिनी की मौजूदगी में ग्लैमर पर बातें न हो तो भी काम कैसे बने। वैसे भी कोई जमाना था जब बिहार के मुख्यमंत्री रहते लालू यादव ने कहा था कि हम हेमामालिनी के गाल से भी चिकनी सड़कें बनाएंगे।

Read More : मथुरा में एक हीरोइन हेमा मालिनी का चुनाव प्रचार

वहीं कुछ दिन पहले मध्यप्रदेश की कमलनाथ सरकार में कैबिनेट मंत्री सज्जनसिंह वर्मा ने कहा था भाजपा का दुर्भाग्य है कि उनकी पार्टी में खुरदुरे चेहरे हैं, ऐसे चेहरे जिनको लोग नापसंद करते हैं। एक हेमामालिनी है, उसको जगह-जगह शास्त्रीय नृत्य कराते रहते हैं, वोट कमाने की कोशिश करते हैं, चिकने चेहरे उनके पास नहीं हैं।’  इन दिनों मथुरा सीट से उनका मुकाबला कर रहे सपा-बसपा-रालोद गठबंधन के उम्मीदवार और राष्ट्रीय लोक दल के नेता नरेंद्र सिंह चुनाव प्रचार के दौरान सवाल उठाते हैं चेहरे से कौन ज्यादा विश्वास में लगता है? हेमामालिनी ने मेकअप किया है और मैंने मेकअप नहीं किया है।

Read More : मप्र: बसंती की इज्जत का सवाल है, समर्थन करे बोली हेमा मालिनी

मुझे जनता की ओर से अच्छा परिणाम मिल रहा है। इसकी वजह यह है कि मैं यहां का स्थानीय हूं और लोगों की दिक्कतों का समाधान करने में सक्षम हूं। वैसे विवादों को हवा देने में हेमा मालिनी भी पीछे नहीं। बीते दिनों जब वे वृंदावन चुनाव प्रचार के लिए पहुंची तो लोगों ने बंदरों की समस्या उठाई। इससे पर्यटकों को होने वाली परेशानी भी रेखांकित की। तो हमे मालिनी ने जवाब दिया बंदर यहां से कहां जाएंगे, लेकिन समस्या ये है कि वृंदावन आने वाले लोगों ने बंदरों को फ्रूटी और समोसा देकर बिगाड़ दिया है।

Read More :इस कांग्रेस प्रत्याशी के प्रचार के लिए निकले मुकेश अंबानी, VIDEO वायरल

पिछली बार मोदी लहर पर सवार होकर अपने ग्लैमर का तड़का लगाकर संसद में पहुंच गई हेमा मालिनी का जादू इस बार कितना चल पाता है यह देखने वाली बात होगी, क्योंकि एक तो राजनीतिक माहौल पिछली बार जैसे नहीं है और दूसरा विपक्ष के मत विभाजन रोकने के लिए सभी प्रमुख विपक्षी दल एक होकर चुनाव लड़ रहे हैं। इसका असर भी चुनावी नतीजों पर पड़े बगैर नहीं रहेगा। मथुरा में गुरुवार को ही मतदान हो रहा है, लेकिन गिनती पूरे देश के साथ मई के चौथे सप्ताह में ही होगी।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com