मध्य प्रदेश के इन इलाकों में हो रही है भारी वर्षा, नर्मदा में जल स्तर चरम पर, दो मंजिला मकान गिरने से महिला की मौत

देश के राज्य मध्यप्रदेश के कुछ इलाकों में अति बारिश हो रहीं है। जो ग्वालियर, चंबल, बुंदेलखंड और बघेलखंड में गरज-गरज कर बादल बरस रहे है।

देश के राज्य मध्यप्रदेश के कुछ इलाकों में अति बारिश हो रहीं है। जो ग्वालियर, चंबल, बुंदेलखंड और बघेलखंड में गरज-गरज कर बादल बरस रहे है। जिससे नदी-नाले उफना पर बने हुए हैं। नर्मदा, ताप्ती शिप्रा, चंबल नदी और राजधानी भोपाल में भदभदा डैम के साथ ओंकारेश्वर डैम के भी कुछ गेट खोल दिए गए है। चंबल किनारे आसपास बसे गांवों में बाढ़ जैसी स्थिति बनी हुई है। राजगढ़ जिले के खिलचीपुर में 2 मंजिला मकान गिराने से निर्दलीय पार्षद निशा की ननद सलीमन बी की मलबे में दबने से मौत हो गई।

नर्मदा किनारे बसे कुछ जिलों में अधिक बारिश होने की वजह से पानी नर्मदा में जलस्तर अधिक होने की वजह से जिले खंडवा के ओंकारेश्वर डैम के 6 गेट खोल दिए गए है। लगातार हो रही वर्षा के कारण नर्मदापुरम में भी तवा डैम के 5 गेट को 7 फीट खोलकर पानी छोड़ा जा रहा है। तवा डैम के गेट खुलने के बाद से इंदिरा सागर डैम का जलस्तर भी बढ़ रहा है।

इंदिरा सागर विद्युत परियोजना की टरबाइन से पानी की खपत होने से वॉटर लेवल मेंटेन है, लेकिन ओंकारेश्वर बांध में जुलाई के निर्धारित जलस्तर का कोटा पूरा हो चुका है, इसीलिए यहां के गेट खोलकर 1 हजार क्यूमेक्स पानी छोड़ा जा रहा है। भोपाल में भी भदभदा डैम का गेट खोलकर पानी छोड़ा जा रहा है।

Also Read : ट्यूब ब्लाउज के साथ रेड साड़ी पहन मोनालिसा ने दिखाई कातिलाना अदाएं, वीडियो वायरल

गौरतलब है कि, मप्र के शिवपुरी, दतिया, भिंड और श्योपुर में बुधवार-गुरुवार रात से बारिश का कहर जारी है। जिससे कोटा बैराज से छोड़े गए 12 हजार क्यूसेक पानी और बारिश के असर से मुरैना के राजघाट पर चंबल का पानी का स्तर करीब 4 मीटर तक बढ़ गया है। श्योपुर में पार्वती और अमराल नदी उफान पर बने रहने से कोटा हाईवे पूर्ण तरह से बंद कर दिया। जिसके कारण राहगीरों और भारी वाहनों को कई मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है।

मौसम विभाग के मुताबिक, आज यानि शनिवार को भी भोपाल, रायसेन, राजगढ़, ग्वालियर-चंबल, बुंदेलखंड और बघेलखंड में भारी बारिश हो सकती है। नर्मदापुरम, हरदा, बैतूल, निवाड़ी, दमोह, पन्ना, टीकमगढ़, सागर, छतरपुर, डिंडोरी, शहडोल, अनूपपुर, गुना, उज्जैन, शाजापुर, आगर मालवा, देवास, खंडवा, सीहोर में भी बारिश होगी।

ये बड़ी वजह बन रहीं है भारी बारिश की

भारत में आज के दौर में पश्चिमी विक्षोभ मध्य पाकिस्तान के ऊपर चक्रवातीय गतिविधियों के रूप में है। उत्तरी ओडिशा के ऊपर अन्य चक्रवातीय गतिविधियां सक्रिय हैं। मानसून ट्रफ लाइन के गंगानगर, रोहतक, ग्वालियर से होते हुए सीधी, अंबिकापुर, संबलपुर, बालासोर और पूर्व-मध्य बंगाल की खाड़ी तक फैले होने के कारण अब इन इलाकों में जोरदार बारिश हो रही है। उत्तर-दक्षिण ट्रफ दक्षिणी कर्नाटक से कोमरीन सागर तक फैली है। अगले 24 घंटे तक इन्हीं इलाकों में ज्यादा बारिश होगी।